भारतीय सेना की जवाबी कार्रवाई जारी, PAK की 2 चौकियां ध्वस्त, 7 सैनिक भी ढेर

नई दिल्ली: बताया जाता है कि सेना ने #एलओसी के उस पार मौजूद #पाक_सेना की उन #चौकियों को ध्वस्त कर दिया है जिनसे #बॉर्डर_एक्शन_टीम के सदस्यों की घुसपैठ के लिए उनको #कवर_फायर दिया गया था. सूत्रों के मुताबिक इस जवाबी कार्रवाई में 7 पाकिस्तानी सैनिक भी मारे गए हैं.

सूत्रों को मुताबिक पाक की बॉर्डर एक्शन टीम की 647 #मुजाहिद #बटालियन ने #एलओसी पर हुए हमले को अंजाम दिया था. बटालियन के सदस्यों की घुसपैठ के लिए पाक आर्मी की ओर से किरपान और पिंपल पोस्ट से कवर फायरिंग की गई थी. अब जवाब में भारतीय सेना ने भी पाक की उन दोनों चौकियों को ध्वस्त कर दिया है जिनसे ये कवर फायरिंग हुई थी.

पाकिस्तान की ओर से हुए हमले में आज भारत के दो जवान शहीद हो गए. इस हमले के बाद पाक की बॉर्डर एक्शन टीम यानी BAT ने जवानों के शव के साथ बर्बरता की थी. बैट की टीम एलओसी से 200 मीटर अंदर आकर इस कायराना हरकत को अंजाम दिया. बैट की टीम ने छुपकर हमला किया और भाग गई.

पाक सेना को उसकी बर्बरता की सजा देने के लिए भारतीय सेना भी कमर कस चुकी है. सेना अध्यक्ष जनरल विपिन रावत खुद श्रीनगर में मौजूद हैं. माना जा रहा है कि सेना जल्द ही कोई जवाबी कार्रवाई करेगी. हालांकि उसका स्वरूप क्या होगा ये अभी साफ नहीं है. पुंछ आज शहीद होने वाले जवानों में सेना के JCO नायब सूबेदार परमजीत सिंह और बीएसएफ के हेड कांस्टेबल प्रेम सागर शामिल हैं. हमले के बाद इलाके की चौकसी बढ़ा दी गई है.

यह अमानवीय घटना, भारत करारा जवाब देगा: अरुण जेटली
पुंछ हमले पर सरकार की ओर से प्रतिक्रिया आयी है. रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने हमले की निंदा की है. अरुण जेटली ने कहा, ”हमारे पड़ोसियों ने कृष्णा घाटी में हमारे दो जवानों मारकर उनके शव के साथ बर्बरता की. यह एक अमानवीय घटना है, ऐसी घटनाएं युद्ध के दौरान भी नहीं होतीं शांति के दौरान तो निश्चित ही नहीं होती हैं. पूरे देश को सेना पर भरोसा है, भारत हमले का करारा जवाब देगा. शहीदों की शहादत बेकार नहीं जाएगी.”

अपनी करतूत से मुंह चुरा रहा है पाकिस्तान
पाकिस्तान अपनी कायराना हरकत से मुंह चुरा रहा है. पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा, ”पाक सेना ने किसी भी तरह सीज फायर का उल्लंघन नहीं किया. जवानों के साथ बर्ररता का आरोप गलत है. पाकिस्तान की सेना प्रोफेशन है और जवान के साथ असम्मानजनक हरकत नहीं करती.”

पहली बार नहीं है BAT की ये कायराना करतूत
पाकिस्तान की आतंकियों जैसी क्रूर बैट टीम ने पहली बार भारतीय जवानों के शव के साथ बर्बरता की हो ऐसा पहली बार नहीं है. साल 1999 में पाक सेना करगिल युद्ध के दौरान कैप्टन के शव के साथ भी बर्बरता की गई थी. फरवरी 2000 में मराठा रेजिमेंट के जवान भाव साहेब मारुति कालेकर के शव के साथ पाकिस्तान सैनिकों ने बर्बरता की.

इसके बाद साल 2008 में गोरखा रेजिमेंट का एक जवान रास्ता भटक कर एलओसी के पार पहुंच गया था. इसके बाद पाकिस्तानी सेना ने ना सिर्फ उन्हें प्रताड़ित किया बल्कि उनके शव के साथ भी बर्बरता की. साल 2013 को तो भुलाया नहीं जा सकता जब इन्हीं कायर बैट कमांडो शहीद हेमराज का सिर काटकर अपने साथ ले गए थे. साल 2016 में भी इसी तरह की दो घटनाएं हुईं थी.