महिला सुरक्षा कानून संबंधी जानकारी दी

इस ख़बर को शेयर करें:

बड़वानी @ उपायुक्त (विकास) क्षेत्रिय ग्रामीण विकास एवं पंचायत राज प्रशिक्षण केन्द्र इदौर के निर्देशानुसार जिले में 26 दिसम्बर से 28 दिसम्बर तक निर्वाचित महिला जनप्रतिनिधियों के क्षमतावर्धन प्रशिक्षण सत्र का आयोजन का जिला स्तर पर बी.आर.सी. भवन बड़वानी मे किया गया।

उक्त प्रशिक्षण में सहायक जिला अभियोजन अधिकारी कीर्ति चौहान द्वारा 45 महिला जनप्रतिनिधियो को महिला सुरक्षा संबंधी कानून एवं महिलाओं से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियों से अवगत कराया गया तथा बताया गया कि शासन द्वारा महिलाओं की सुरक्षा के लिये नये अधिनियम बनाये गये है पुराने अधिनियमो में भी संशोधन किया गया है । यदि कार्यस्थल पर महिला के साथ किसी सहयोगी स्टॉफ या वरिष्ठ अधिकारी द्वारा कोई छेड़खानी या अश्लील मांग की जाती है तो उसके संबंध में शिकायत उस संस्था द्वारा बनायी गयी समिति में की जाये।

यदि किसी महिला या बालिका के साथ कोई व्यक्ति अश्लील हरकत करके छेड़खानी करे, पीछा करे, फेसबुक पर बार बार पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजे, सोशल मीडिया पर भी बार-बार मेसेज भेजकर परेशान करे या लगातार बुरी नियत से घुरे, महिला/बालिका को निजीकृत्य करते हुये देखे या फोटो खिंचे या महिला या बालिका की एकांतता भंग करे तो यह सब कृत्य अपराध है तुरंत थाने पर शिकायत करे इस प्रकार की समझाईश दी गयी।

प्रशिक्षण के दौरान उन्होने बताया कि गर्भ की लिंग जॉच करवाना एवं गर्भ समाप्त करवाना भी अपराध है, यदि किसी महिला के परिवार द्वारा गर्भ के लिंग जॉच का दबाव डाला जाये तो तुरंत शिकायत करे। आगे बताया कि नाबालिक का विवाह कानुनन अपराध है, तथा यह बताया कि दहेज लेना और देना दोनो कानुनन अपराध है।

यदि पति अपनी पत्नी को घर से निकाल देता या पत्नी उचित कारण से पति का गृह त्याग करती है तो वह न्यायालय में प्रकरण दर्ज करवाकर अपने एवं अपने नाबालिक बच्चो के लिये भरण-पोषण की मांग कर सकती है। इस प्रकार चौहान द्वारा निर्वाचित महिला जनप्रतिनिधियों को महिलाओ के अधिकारो एवं महिला संबंधी कानून की जानकारी प्रदान की गयी।