किल कोरोना अभियान के प्रभावी क्रियान्‍वयन हेतु प्रशासन-पुलिस और निगम अधिकारियों को तालमेल बनाये रखने के निर्देश

जबलपुर । किल कोरोना अभियान के तहत घर-घर किये जा रहे स्‍वास्‍थ्‍य सर्वे की तीन दिन की प्रगति की आज शाम समीक्षा करते हुये कलेक्‍टर श्री भरत यादव ने सर्वे कार्य से जुड़े सभी विभागों के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को टीम के रूप में काम करने तथा एक-दूसरे से निरंतर संपर्क में रहने एवं समन्‍वय बनाये रखने के निर्देश दिये है। श्री यादव ने बैठक में कहा कि किल कोरोना अभियान के तहत पिछले तीन दिनों में जबलपुर जिले में अच्‍छा काम हुआ है और घर-घर स्‍वास्‍थ्‍य सर्वे के इस कार्य में यही गति बनाये रखनी होगी। उन्‍होंने अभियान के तहत घर-घर सर्वे के दौरान पाये गये कोरोना के संदिग्‍ध मरीजों के सेम्‍पल लेने और इसके पहले उन्‍हें होम आइसोलेशन अथवा घर में सुविधा न होने पर संस्‍थागत क्‍वारंटीन सेंटर भेजने के निर्देश दिये हैं।

कलेक्‍टर कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित की गई किल कोरोना अभियान की समीक्षा बैठक में जिला पंचायत के सीईओ प्रियंक मिश्रा, नगर निगम आयुक्‍त अनूप कुमार, अपर कलेक्‍टर हर्ष दीक्षित एवं संदीप जीआर, अतिरिक्‍त पुलिस अधीक्षक अमित कुमार, सीएमएचओ डॉ. रत्‍नेश कुररिया तथा अन्‍य संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद थे। कलेक्‍टर ने बैठक में किल कोरोना अभियान के तहत घर-घर सर्वे के लिये तैनात की गई पायलट टीमों एवं मुख्‍य टीमों के साथ संबंधित क्षेत्र के प्रशासनिक, पुलिस, नगर निगम तथा स्‍थानीय निकायों के अधिकारियों के बीच बेहतर तालमेल पर भी जोर दिया। उन्‍होंने कहा कि प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारी अपने-अपने क्षेत्र में किल कोरोना अभियान की नियमित रूप से मानिटरिंग करें तथा सर्वे दलों के साथ-साथ समय-समय पर क्षेत्र का भ्रमण भी करें।

श्री  यादव ने कहा कि अभियान के तहत सर्वे दलों को नागरिकों से अच्‍छा सहयोग मिल रहा है। लेकिन यदि कहीं कठिनाई आती है तो प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों को फौरन वहां पहुंचकर उसका निराकरण करना होगा। उन्‍होंने सर्वे के दौरान कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के उपायों के प्रति लोगों को प्रचार-प्रसार के जरिये जागरूक करने के निर्देश भी दिये है । उन्‍होंने कहा कि इससे सर्वे दलों काम ज्‍यादा आसान होगा। श्री यादव ने डेंगू, मलेरिया और मौसमी बीमारियों से बचने के उपायों की जानकारी भी सर्वे के दौरान लोगों को देने की हिदायत दी। उन्‍होंने कहा कि सर्वे दलों के साथ नगर निगम एवं स्‍थानीय निकायों के अमले को क्षेत्र में लार्वा विनिष्‍टीकरण ओर दवाओं के छिड़काव का काम भी करना हेगा। कलेक्‍टर ने रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने कण्‍टेनमेंट जोन के रहवासियों को आयुर्वेदिक काढ़ा वितरित करने के निर्देश भी दिये है । इसके साथ ही उन्‍होंने कोरोना वायरस के संक्रमण के लिहाज से संवेदनशील क्षेत्रों पर खास ध्‍यान देने की हिदायत भी अधिकारियों को दी।

कलेक्‍टर ने बैठक में फीवर क्‍लीनिक पर चर्चा करते हुये कहा कि फीवर क्‍लीनिक की ओपीडी बढ़ाने और प्रयास किये जाने चाहिये। उन्‍होंने कहा कि फीवर क्‍लीनिकों का प्रचार-प्रसार भी किया जाये ताकि लोगों को इनके बारे में जानकारी हो और सर्दी-खांसी, बुखार जैसे लक्षणों वाले ज्‍यादा से ज्‍यादा मरीज वहां पहुंचकर अपना परीक्षण करायें। श्री यादव ने फीवर क्‍लीनिकों में कोरोना से मिलते जुलते लक्षणों वाले और अन्‍य रोगों के मरीजों की मिक्सिंग न हो इसके लिये अलग-अलग ओपीडी बनाने के निर्देश भी दिये।

उन्‍होंने कहा कि फीवर क्‍लीनिक में परीक्षण में मिलने वाले कोरोना संदिग्‍ध मरीजों का सेम्‍पल उसी फीवर क्‍लीनिक में अथवा उससे संबंधित सेम्‍पल कलेक्‍शन सेंटर में ही लिया जाना चाहिये। श्री यादव ने कहा कि फीवर क्‍लीनिकों की रैंकिक भी की जायेगी और श्रेष्‍ठ फीवर क्‍लीनिकों के स्‍टाफ को सम्‍मानित भी किया जायेगा। कलेक्‍टर ने बैठक में किल कोरोना अभियान के तहत घर-घर सर्वे से कोई भी घर या कोई भी व्‍यक्ति न छूटे इस पर विशेष ध्‍यान देने की हिदायत भी बैठक में दी। उन्‍होंने सर्वे के दौरान एकत्रित जानकारी को सार्थक एप पर तुरंत दर्ज करने के निर्देश भी दिये है।