आईटी कंपनियों की नज़र अब इंदौर पर

इस ख़बर को शेयर करें:

आईटी के क्षेत्र में तेजी से उभर रहे शहर में दो और आधुनिक आईटी पार्क तैयार हो रहे हैं। इलेक्ट्रॉनिक्स कॉम्प्लेक्स स्थित पार्क तैयार हो गया है, जबकि क्रिस्टल आईटी पार्क के पास एकेवीएन द्वारा बनाए जा रहे क्रिस्टल आईटी पार्क-2 का काम अंतिम चरण में है। खास बात यह है कि दोनों पार्क में आने के लिए आईटी कंपनियां खासी लालायित है। कॉम्प्लेक्स में तीन बड़ी आईटी कंपनियां रुचि ले रही है। इनमें एक अमरीकन कंपनी से भी चर्चा अंतिम चरण में है। वहीं क्रिस्टल आईटी पार्क -2 में तो 13 कंपनियों ने अपने ऑफिस बुक कर लिए हैं। दोनों स्थानों के लिए २० से अधिक आवेदन पाइप लाइन में है।

सुपर कॉरिडोर पर टीसीएस-इंफोसिस की तैयारियों को देखते हुए अब इंदौर भी आईटी कंपनियों की प्राथमिकता पर आ गया है। इसकी पुष्टि शहर के दो आईटी पार्क के लिए शुरू की गई मार्केटिंग रणनीति से हो रही है। इलेक्ट्रॉनिक्स डवलपमेंट कार्पोरेशन और एकेवीएन द्वारा आईटी कंपनियों के लिए बेहतर सुविधाएं जुटाने का काम किया जा रहा है। अंतरराष्ट्रीय व राष्ट्रीय स्तर की बड़े बजट की कंपनियों के साथ ही छोटी, बीपीओ, केपीओ स्तर की कंपनियों को भी शहर में लाने की कोशिश की जा रही है।

इलेक्ट्रॉनिक्स डवलपमेंट कॉर्पोरेशन के जनरल मैनेजर द्वारकेश सराफ बताते हैं कि कॉर्पोरेशन ने ६ मंजिला आईटी पार्क तैयार किया है। इसमें सभी सुविधाओं के साथ कंपनियों को आईटी नीति के लाभ भी दिए जा रहे हैं। पार्क में 24 कंपनियों के लिए जगह तय की गई है। इसके अलावा एक स्टार्टअप सेक्शन भी बनाया है, जिसमें एक हजार वर्गफुट जमीन भी दी जा सकेगी। कारपेट एरिया के लिए 25 रुपए प्रति वर्गफीट किराया तय किया गया है, जिसमें सुविधाएं भी शामिल हैं। अमरीकन कंपनी विस्टा आईटी सॉल्युशन सहित तीन ई-कामर्स कंपनियां आने की तैयारी में है।

एकेवीएन द्वारा भंवरकुआं के पास स्थित क्रिस्टल आईटी पार्क का दूसरा भाग तैयार किया जा रहा है। इसका काम अंतिम चरण में है। अगले साल की शुरुआत तक यह तैयार हो जाएगा। एकेवीएन एमडी कुमार पुरुषोत्तम के अनुसार पार्क के लिए बुकिंग शुरू की गई थी, जिसके लिए 26 अगस्त तक अवसर है। यहां 20 कंपनियों के लिए जगह बनाई है। 30 साल की लीज पर ऑफिस दिए जा रहे हैं। पार्क में इंदौर की स्थानीय कंपनियों ने ही रुचि दिखाते हुए छोटे कार्यालय तो बुक कर लिए हैं। अब तक 10 स्टार्टअप सेक्शन और 03 छोटी कंपनियों को जगह आवंटित की गई है। इतने ही आवेदन और लंबित हैं।

अभी बड़े कार्यालय के लिए कुछ कंपनियों से चर्चा चल रही है। पूरी तरह से आईटी एन्वायरमेंट के साथ तैयार पार्क नान एसईजेड है। यहां सॉफ्टवेयर डवलपमेंट के साथ ही अन्य आईटी सॉल्युशंस को भी स्थान दिया है।

06 मंजिला पार्क
02 लाख वर्ग फीट एरिया
48 करोड़ लागत।
24 कंपनियां व स्टार्टअप के लिए स्थान।
300 कार, दोपहिया पार्र्किंग
15 मिनट की दूरी एयरपोर्ट से