किसान की पुलिस पिटाई से हुई मौत पर जबलपुर एसपी का हुआ तबादला, सिद्धार्थ बहुगुणा होंगे नए एसपी

इस ख़बर को शेयर करें:

जबलपुर में एक किसान की लॉक डाउन तोङने के आरोप में पुलिस द्वारा की गई बेदर्दी से पिटाई के बाद हुई मौत के मामले में शिवराज सरकार ने जबलपुर एसपी अमित सिंह को हटा कर नई पदस्थापना सहायक पुलिस महानिरीक्षक पुलिस मुख्यालय भोपाल में कर दिया गया है दिया है। उनके स्थान पर नए एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा सहायक पुलिस महानिरीक्षक (सामान्य) विशेष शाखा, पुलिस मुख्यालय भोपाल होंगे।

जबलपुर पुलिस द्वारा की गई निर्मम पिटाई के चलते एक किसान की मौत के मामले को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस मामले में ट्वीट करते हुए सरकार से कड़ी कार्रवाई की मांग की थी ।सरकार ने इसे गंभीरता से लेते हुए एसपी जबलपुर को हटा दिया है।

बता दें कि सोमवार को बुजुर्ग किसान बंसीलाल जब अपने खेत से गाय को चारा खिला कर वापस आ रहे थे तो कुछ पुलिसकर्मियों द्वारा उनकी बेदर्दी से पिटाई कर दी गई। जिसके बाद पुलिस उन्हें घायल अवस्था में ही छोड़कर वहां से वापस चली गई।

परिजनों की सूचना के बाद उन्हें निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उनकी मौत हो गई। जिसको लेकर अब पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सरकार को आड़े हाथ लिया है।

गोरा बाजार थाने में पदस्थ कुछ पुलिसकर्मियों ने एक 50 साल के किसान की सिर्फ इसलिए बेदर्दी से पिटाई कर दी क्योकि वह लॉक डाउन(lockdown) के दौरान अपने खेत से वापस घर जा रहा था।इतना ही नही बेदर्दी पुलिसकर्मियों ने पिटाई करने के बाद बुजुर्ग को वही पर घायल अवस्था मे छोड़कर चले गए।

जब बुजुर्ग बंशी लाल(bansilal) घर नही पहुँचे तो परिजन तलाश मे जुट गए। खेत से जब काफी देर तक बंशीलाल वापस नही आए तो परिजन पड़ोसियों के साथ उन्हें तलाश करने खेत जाने लगे। जहाँ रास्ते पर घायल बंशीलाल कराह रहे थे। आनन फानन में घायल बुजुर्ग को घर लाया गया पर शनिवार को जब उनकी हालत ज्यादा खराब हो गई तो इलाज के लिए निजी अस्पताल लाया गया जहाँ आज उनकी मौत हो गई।

परिजनों के मुताबिक खेत मे बंधे जानवरो को बंशी लाल रोजाना ही चारा देने जाते थे।शुक्रवार को भी रात को जब वह जानवरो को खाना खिलाकर वापस लौट रहे थे। तभी पुलिस की सरकारी जीप में 6 से 7 पुलिसकर्मी पहुँचे और उनके साथ लाठी से मारपीट की और घायल अवस्था मे ही उन्हें वही छोड़कर चले गए।

निजी अस्पताल में इलाजरत बंशीलाल की मौत की खबर जैसे ही ग्रामीणों को लगी वैसे ही उनका पुलिस के खिलाफ आक्रोश फूट पड़ा। इधर घटना को लेकर asp डॉ संजीव कुमार का कहना है कि बंशीलाल के मरने से पहले का वीडियो हमे मिला है जिसमे कुछ पुलिसकर्मियों के नाम भी है। प्रथम द्रष्टया लापरवाही मानते हुए उन पुलिसकर्मियों पर कार्यवाही की जा रही है साथ ही कैंट सीएसपी को जांच के लिए निर्देशित किया गया है।