जाधव को फांसी की सजा पर पाक के खिलाफ संसद से सड़क तक गुस्से का ज्वार

Subscribe My channel ► Khabar Junction

भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान द्वारा मौत की सजा सुनाने के विरोध में भाजपा के कार्यकर्ता व नेता सड़कों पर उतरे। जगह-जगह प्रदर्शन कर पाकिस्तान और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के पुतले फूंके गए। प्रदर्शनकारियों ने जाधव की रिहाई की मांग भी की और फांसी देने पर पाकिस्तान को गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी भी दी।

भाजपा के गोवंश प्रकोष्ठ हरियाणा के निवर्तमान प्रभारी पंडित विजय पुलस्त्य के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं व नेताओं ने शहर में फव्वारा चौक में पाकिस्तान और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का पुतला फूंका। पुलस्त्य ने कहा कि कुलभूषण जाधव के मामले में पाकिस्तान झूठ पर झूठ बोलता जा रहा है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने साजिश के तहत निर्दोष व्यक्ति को मृत्युदंड की सजा दी है जो गलत है। पाकिस्तान आए दिन भारत को परेशान करने के तरीके तलाशता रहता है। कुलभूषण जाधव नौ सेना के सेवानिवृत्त अधिकारी हैं और ईरान में व्यापार के सिलसिले में गए थे। प्रदर्शन का संयोजन श्रीभगवान शर्मा व सत्यनारायण शर्मा ने किया।

भाजपा नेताओं ने जाधव की सजा को तुरंत माफ करने और उसे रिहा करने की मांग की। इस मौके पर भाजपा नेता प्रवीण राजौरा, राजेंद्र सभ्रवाल, नरेश चानना, अनिल डूडी, सत्यनारायण पांचाल, रामफल खटक, बलदेव गर्ग, सुनील खान, अशोक शर्मा, मोहित वाल्मीकि, भगत ¨सह चहल, महावीर जांगड़ा, आलोक चंद्र पुलस्त्य, आदित्य आदि भी थे।

दूसरी ओर जिला पार्षद अशोक आहुलाना के नेतृत्व में शहर में बस स्टैंड के निकट पाकिस्तान का पुतला फूंका गया। यह प्रदर्शन नौ सेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाए जाने पर हुआ। पार्षद आहुलाना ने कहा कि पाकिस्तान ने न भारतीय राजनयिकों को कुलभूषण जाधव से मिलने दिया और न ही उसे वकील मुहैया कराया गया। यह न्याय का कत्ल है और बिना पुख्ता सबूतों के किसी को फांसी पर चढ़ाना सुनियोजित हत्या है। उन्होंने कहा कि सरबजीत की भांति देश कुलभूषण जाधव को खोना नहीं चाहता। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग की कि अंतरराष्ट्रीय दबाव को बढ़ा कर और प्रत्येक संभव उपाय करते हुए जाधव को सुरक्षित स्वदेश वापस लाया जाए। प्रदर्शन में सोनू नेहरा, प्रमोद, पप्पू, दलजीत, रामफूल, संदीप, चांद स्वामी आदि शामिल रहे।

एकजुट संसद ने की पाकिस्तान को सबक सिखाने की मांग
अमर उजाला में कुलभूषण से संबंधित खबर के साथ सुषमा स्वराज के उस बयान को खास तवज्जो देकर छापा गया है जिसमें उन्होंने कहा है कि जाधव को फांसी की सजा सुनाए जाने से पहले पाकिस्तान ने न्याय के सिद्धांत का मजा उड़ाया है. यह फैसला सुनियोजित हत्या है. अखबार ने राजनाथ सिंह, कांग्रेस के मल्लिकार्जुन खड़गे और असदुद्दीन ओवैसी के बयानों को भी प्रमुखता से स्थान दिया है.

कुलभूषण की मदद के आरोप में कराची का डॉन हिरासत में
जहां पूरे भारत में पाकिस्तानी सेना के इस फैसले का लोग विरोध कर रहें हैं. वहीं अब पाकिस्तान के डॉन भी कुलभूषण जाधव की मदद की थी . पाकिस्तान की सेना ने इस कराची से इस डॉन को हिरासत में लिया है. जिसके ऊपर यह आरोप लगा है कि वह पाकिस्तान में जासूसी के लिए कुलभूषण की मदद करता था. खबरों के मुताबिक गिरफ्तार शख्स का नाम उजैर बलोच बताया जा रहा है. जिसकी गिरफ्तारी जनवरी 2016 में कराची के बाहर पाकिस्तानी रेंजर्स कर्मियों ने एक तथाकथित छापे में हुई थी. पाकिस्तानी सेना उजैर बलूच पर देशद्रोह का मामला दर्ज किया है.

पाकिस्तान में जासूसी करने और देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने के आरोप में भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को मौत की सजा सुनाई गई है. पाकिस्तान ने 30 मार्च 2016 को एक वीडियो जारी किया था जिसमें कुलभूषण यादव को यह कहते हुए दिखाया गया कि उन्होंने भारतीय खुफिया एजेंसी ‘रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ)’ के इशारे पर कराची और बलूचिस्तान में कई गतिविधियों का संचालन किया और वह अब भी भारतीय नौसेना से जुड़े हैं. भारत ने इस वीडियो की सत्यता पर सवाल उठाए थे. गृह राज्य मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा था कि पाकिस्तान द्वारा बनाए गए इस वीडियो का अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कोई प्रभाव नहीं होगा.

गौरतलब हो कि इस मामले पर पाकिस्तान ने मंगलवार को भारत के कथित जासूस कुलभूषण जाधव को मौत की सजा सुनाए जाने को जायज ठहराते हुए कहा है कि इस्लामाबाद खुद को बाहरी खतरों से बचाने में सक्षम है. पाकिस्तान के रक्षामंत्री ख्वाजा आसिफ ने संसद में कहा कि पाकिस्तान इस तरह के तत्वों से सख्ती से निपटने में पूरी तरह सक्षम है. जाधव को फांसी दिए जाने के खिलाफ भारत द्वारा दी गई चेतावनी के जवाब में उन्होंने कहा, “हम अपने देश की रक्षा हर कीमत पर करेंगे.