जयपुर लिट्रेचर फेस्टिवल में विमुद्रीकरण का सकारात्मक प्रभाव

विमुद्रीकरण का सकारात्मक प्रभाव अब साहित्य के कुम्भ में भी देखने को मिल रहा है।
जयपुर में गुरुवार से शुरू हुए साहित्य महोत्सव को पूरी तरह कैशलेस रखा गया है। पांच दिन तक चलने वाले इस महाकुम्भ में दुनिया भर से 400 लेखक भाग ले रहे हैं। दूरदर्शन के साथ बातचीत में फेस्टिवल के निर्माता संजोय रॉय का ने कहा कि कैशलेस एक सुलभ और सुरक्षित सुविधा है।