आत्महत्या के इरादे से तिलवारा में कूदी नाबालिग छात्राओ को गोताखोरों ने बचाया

जबलपुर। एक ही कक्षा में पढ़ने वाली तीन छात्राओं ने एक साथ तिलवारा पुल से नर्मदा नदी में छलांग लगा दी लेकिन मौके पर उपस्तिथ गोताखोरों की मदद से तीनों को बचा लिया गया,अब पुलिस द्वारा तीनों छात्राओं को थाना ले जाकर उनके परिजनों के साथ बातचीत कर उनकी समस्या का समाधान करने की कोशिश की जा रही है.

तीनों है सहेलियां, दो बार हो चुकी है फेल

तिलवारा टी आई रीना पांडे ने बताया की तीनों छात्राएं   मुजावर मोहल्ला गढ़ा में रहने वाली है, तीनों नाबालिग छात्राएं 9वीं कक्षा में दो बार फेल हो चुकी है,साथ ही एक लड़की की शादी का भी मामला सामने आया है ,परिजनों द्वारा उसकी मन की शादी नहीँ की जा रही थी ,जिसके चलते वे मायूस हो गई,और तीनों सहेलियों ने आत्महत्या करने के इरादे से तिलवारा पुल पहुँचकर छलांग लगा दी लेकिन गोताखोर शिवम वर्मा ,दिलीप सोनी ने अपनी जान पर खेलकर तीनों छात्राओं की जान बचाई.

 

गुमशुम सी रहने लगीं थी छात्राएं

वहीं बताया तो यह भी जा रहा है की फेल होने के बाद छात्राओं ने घरों से भी बाहर निकलना बंद कर दिया था, यहाँ तक की परिजनों से भी बोलना बंद कर दिया था, तीनों छात्राएं आज गुरुवार को दोपहर अपने घर से निकली और तिलवारा पुल पर पहुंच गई, जहां पर कुछ देर तक इधर से उधर घूमने के बाद जैसे ही देखा कि पुल से कोई वाहन नहीं आ रहा है, तीनों ने एक साथ तिलवारा पुल से नर्मदा नदी में छलांग लगा दी.इसी  बीच नाविकों ने देखा तो तत्काल पहुंच गए, जिन्होने तीनों छात्राओं को डूबने से पहले पानी से बाहर निकाल लिया.इस दौरान कई लोगों की भीड़ जमा हो गई थी, बच्चियों को तत्काल शासकीय अस्पताल पहुंचाया गया, इसके बाद थाना लेकर आए, जहां पर परिजनों को बुलाकर घटना की जानकारी दी गई, घटना की जानकारी मिलते ही परिजन भी स्तब्ध रह गए. इस दौरान थाना में भी काफी देर तक लोगों की भीड़ लगी रही. इसके बाद तीनों बच्चियों को उनके परिजनों के साथ घर भेज दिया गया.