कियोस्क संचालक द्वारा गरीब ग्रामीणों से अंगूठा लगवाकर निकाल ली उनकी राशि

इस ख़बर को शेयर करें:

कटनी : कोरोना संकट काल में सरकार द्वारा गरीबों के खातों में पैसे डाले गए थे ताकि लॉक डाउन के दौरान गरीबों को दिक्कत न जाये लेकिन यहाँ पर एक कियोस्क संचालक द्वारा गरीब ग्रामीणों से अंगूठा लगवाकर उनकी राशि निकाल कुछ इस तरह के आरोप लगाते हुए लोगों ने एसडीएम बहोरीबंद से उचित कार्यवाही की मांग की है.

ग्रामीणों ने आरोप लगाते हुए बताया की बहोरीबंद तहसील क्योस्क संचालक ने गरीबों की आंखों में धूल झोंककर राशि निकाल ली,मामला बहोरीबंद तहसील अंतर्गत ग्राम अमाड़ी का है जहां पर गरीबों के खातों में उज्ज्वला योजना की राशि एवं निराश्रित पेंशन की राशि व प्रधानमंत्री प्रोत्साहन की राशि संबंधी राशि शासन द्वारा खातों में डाली गई थी जिसमें ग्राम अमारी की ही ग्राम कोटवार मनोज प्रधान जोकि किओस्क बैंक का संचालन करता है.

जिसके पास ग्रामीणों ने अपने हाथों को चेक करवा कर राशि लेने गए तब वहां मनोज प्रधान द्वारा गरीबों को फिंगर लगवा कर यह कह दिया गया कि सर्वर डाउन होने के कारण आपका पैसा भी नहीं निकलेगा और किसी के खातों में + 15 ₹100 उन पंद्रह ₹100 में हितग्राही को केवल ₹1000 दिया गया और ₹500 संचालक द्वारा अंगूठा लगाकर अपने जेब में ₹500 रख लिया.

बैंक से खुला राज
वहीं जब लोग एसबीआई बैंक पहुँचे और अपने -अपने खातों को चैक करवाया तो लोगों ले होस उड़ गए ,बताया तो यह भी जा रहा है की ऐसे कई गरीबों के साथ में मनोज प्रधान द्वारा घृणित कृत्य को अंजाम दिया गया जिससे प्रताड़ित होकर ग्रामीणों ने अपने अपने खातों की जांच भारतीय स्टेट बैंक शाखा बहोरीबंद में जब स्टेटमेंट निकलवाया तब पता चला कि संचालक मनोज प्रधान द्वारा राशि का गोलमाल किया गया है जिसकी शिकायत अनुविभागीय अधिकारी बहोरीबंद के समक्ष ग्रामीणों ने की आरोपी मनोज प्रधान के खिलाफ उचित कार्यवाही की मांग की है.