आज से 2 दिन की सीबीआई रिमांड पर कुलदीप सिंह सेंगर

लखनऊ। उन्नाव दुष्कर्म कांड में सीबीआई ने विधायक कुलदीप सेंगर को पीडि़त किशोरी के पिता के पास से फर्जी तरीके से तमंचे की बरामदगी के मामले में षड्यंत्र का आरोपित बनाया है। सीबीआई रविवार सुबह विधायक सेंगर को दो दिनों की पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी और उनका सामना माखी थाने के तत्कालीन एसओ अशोक सिंह भदौरिया व दारोगा कामता प्रसाद सिंह से सामना भी कराएगी। सूत्रों के मुताबिक सीबीआई के हाथ फर्जी तरीके से तमंचे की बरामदगी दिखाए जाने के कई पुख्ता साक्ष्य लगे हैं।

आरोपित विधायक सेंगर को सीबीआई की प्रभारी विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट विनीता सिंह ने शनिवार को दो दिन के लिए सीबीआई को पुलिस कस्टडी रिमांड पर दिए जाने का आदेश दिया है। माखी थाने के तत्कालीन एसओ ने सीबीआई पूछताछ में कई अहम राज उगले हैं।

सूत्रों के मुताबिक विधायक सेंगर की सीधे एसओ से फोन पर बात भी हुई थी। अब तक की सीबीआई जांच में विधायक के प्रभाव में ही पुलिस के खेल करने की बात सामने आ चुकी है। मोबाइल कॉल डिटेल से भी अहम सुराग हाथ लगे हैं। सीबीआई अब सभी कडिय़ां जोड़ेगी।

माखी थाने के तत्कालीन एसओ अशोक सिंह व दारोगा कामता प्रसाद से पूछताछ के बाद सीबीआई का शिकंजा आरोपित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर कसना शुरू हो गया है। जिस प्रकार विधायक की भूमिका फर्जी तरीके से तमंचा बरामद दिखाकर पीडि़त किशोरी के पिता को जेल भेजने के षड्यंत्र में सामने आई है, उससे हत्या का मुकदमा सीधे तौर पर जुड़ा है।

उल्लेखनीय है कि मारपीट के बाद पीडि़त किशोरी के पिता को फर्जी मुकदमे में जेल भेज गया। माखी थाने की पुलिस ने पीडि़त किशोरी के पिता के पक्ष की ओर से पहले रिपोर्ट तक नहीं दर्ज की थी। उल्टा पहला मुकदमा पीडि़त किशोरी के पिता के खिलाफ ही दर्ज किया गया। उसमें भी पुलिस ने खेल किया और गंभीर रूप से घायल होने के बावजूद किशोरी के पिता को तमंचा बरामद दिखाकर जेल भेजा गया।

उसके इलाज में भी लापरवाही बरती गई। सिलसिलेवार यह पूरा खेल विधायक के दबाव में ही किया गया।सीबीआई जांच में यह भी सामने आ चुका है कि विधायक ने लगातार स्थानीय पुलिस के अधिकारियों को फोन भी घुमाए थे। सूत्रों का कहना है कि पीडि़त किशोरी के पिता की हत्या के केस में सीबीआई कई बिंदुओं पर जांच कर रही है। जिनमें विधायक की भूमिका सिलसिलेवार सामने आ रही है। ऐसे में हत्या के केस में विधायक पर शिकंजा कसना लगभग तय माना जा रहा है।