मेडिकल एसेसमेण्ट कैम्पों का आयोजन तहसील व ब्लाक स्तर पर शीघ्रता से कराये जायें

जालौन@ विशिष्ट आवश्यकता वाले बच्चों हेतु मेडिकल एसेसमेण्ट कैम्पों का आयोजन तहसील व ब्लाक स्तर पर शीघ्रता से कराये जायें। उक्त बात जिलाधिकारी श्री नरेन्द्र शंकर पाण्डेय ने आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित मेडिकल एसेसमेण्ट कैम्प आयोजन सम्बन्धी बैठक में कही।

उन्होंने कहा कि ऐसे कैम्पों के आयोजन के अवसर पर विशिष्ट आवश्यकता वाले बच्चों को प्रत्येक शिविर में न्यूनतम 50 तथा अधिकतम 150 बच्चों को प्रतिभाग कराया जाये। मेडिकल ऐसेसमेण्ट कैम्प आयोजित कराने हेतु मुख्य चिकित्साधिकारी दल का गठन कर लिया जाये।

जिससे एक आर्थाेपैडिक सर्जन, एक ई0एन0टी0 सर्जन एक नेत्र विशेषज्ञ एवं एक साइकोलाजिस्ट/साईकिट्रिशियन अनिवार्य रूप से सम्मिलित होना चाहिए। यह दल बच्चों की जांच कर कैम्प में बाग श्रवण दिव्यांगता व बौद्धिक दिव्यांगता से प्रभावित बच्चे के प्रमाण पत्र भी बनवाये जाये तथा जिन बच्चो को उपकरण एवं करेक्टिव सर्जरी की आवश्यकता है, उनको सहायक उपकरण व सर्जरी हेतु चिन्हित किया जाये।

जापानी इंसेफलाइटिस एवं एक्यूट इंसेफलाइटिस सिण्ड्रोम (जे0ई0/ए0ई0एस0) से प्रभावित बच्चों को भी चिन्हित कर परीक्षण कराया जाये मेडिकल ऐसेसमेण्ट कैम्प के आयोजन हेतु स्थल तथा तिथियों का निर्धारण शीध्र कर आयोजन कराये जायें।

बच्चों के प्रमाण पत्र बनवाने में आधार कार्ड का बनना जरूरी है। इसके बिना ऑनलाइन आवेदन नहीं भरा जा सकता है। इसलिए इन्हें जागरूक कर दे कि वह अपना आधार कार्ड किसी भी लोकवाड़ी केन्द्र से बनवा लें। बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिये कि वह तहसील व ब्लॉक स्तर पर आयोजित की जाने वाली बैठक अतिशीघ्र कराकर इसका प्रचार-प्रसार करायें। जिससे अधिक से अधिक बच्चे उसका लाभ उठा सके।

इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी श्री एस0पी0सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 अल्पना बरतारिया, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी श्री राजेश शाही सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारी एवं समस्त खण्ड शिक्षा अधिकारी उपस्थित रहें।