एथेनॉल-एलोवेरा के घोल से हर्बल सैनिटाइजर बनाने की विधि बताया मेडिकल डिपार्टमेंट के डीन डॉ. मार्शल ध्याल ने, बचाव में 100 फीसदी कारगर
इस ख़बर को शेयर करें

वाराणसी.कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते विशेषज्ञ हाथों को बार-बार धुलने व मुंह पर मॉस्क लगाने की सलाह दे रहे हैं। इसके चलते सैनिटाइजर के अचानक खपत बढ़ने से कालाबाजारी भी शुरु गई है। ऐसे में आईआईटी बीएचयू ने हर्बल सैनिटाइजर बनाकर आमजन तक पहुंचाने का कदम उठाया है। ये हर्बल सैनिटाइजर घर में भी आसानी से बनाया जा सकता है। डिपार्टमेंट ने कैंपस में50 से ज्यादा सैनिटाइजर की बोतल मुफ्त में बांटा है।

50 रुपए में 100 एमएल सैनिटाइजर बनेगा
बीएचयू आईआईटी के बायो मेडिकल डिपार्टमेंट के डीन डॉ. मार्शल ध्याल ने बताया- सैनिटाइजर को बकायदा लैब में बनाया गया है, जो पूरी तरह से सुरक्षित है। कई डिपार्टमेंट और सरसुंदर लाल अस्पताल के लिए भी हर्बल सैनिटाइजर की डिमांड की गई है।50 रुपए में करीब 100 एमएल सैनिटाइजर बनाया जा सकता है। इसमें एथेनॉल, एलोवेरा व खुशबू के लिए गुलाब की पंखुड़ियों का इस्तेमाल किया गया है।

सैनिटाइजर बनाने की ये है विधि
डॉ. मार्शल ने बताया- मार्केट में मिलने वाले एथेनॉल को 70 प्रतिशत और एलोवेरा के 30 प्रतिशत जेल और खुशबू के लिए कुछ गुलाब की पंखुड़ियों का इस्तेमाल किया जा सकता है। एलोवेरा को छीलकर बीच का जेल निकाल लीजिए। उसको मिक्सी में चलाकर लिक्विड कर लीजिए। फिर 70 प्रतिशत एथेनॉल में जेल को मिला दें। उसके बाद गुलाब की पंखुड़ियों को गर्म पानी में उबालकर रस मिला लें।

तीनों को एक बर्तन में लेकर 5 मिनट तक अच्छे से मिलाएं। फिर से छन्नी में छान लें। इस तरह हर्बल सैनिटाइजर तैयार हो जाएगा। इसका इस्तेमाल 1 महीना आसानी से किया जा सकता है।बाजार का एलोवेरा जेल और गुलाब जल हो सके तो न प्रयोग करेंया फिर वो शुद्ध हो तभी इस्तेमाल करें।ये 100 प्रतिशत उपयोगी है। ये किसी भी बैक्टीरिया या वायरस से बचाव में कारगर है।