मंत्री और कलेक्टर के बीच अनुमति को लेकर बनी टकराव की स्थिति

भोपाल। प्रशासनिक अधिकारियों और मंत्री के बीच टकराव कोई नई बात नहीं हैं। मध्य प्रदेश में कई बार ऐसे मामले देखने को मिले हैं जहा किसी मंत्री और कलेक्टर के बीच तनातनी की स्थिति बनी हो। ताजा मामला शिवपुरी में देखने को मिला हैं। शिवपुरी की विधायक और प्रदेश शासन में खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया को प्रभारी कलेक्टर नेहा मारव्या ने इस कदर परेशान कर रखा है कि कलेक्टर पत्रकारों से यहां तक कह रही हैं कि बोर्डिग स्कूल में पढ़ने जाने वाला बच्चा जिस तरह घर जाने के लिये रोज कैलेन्डर देख कर दिन गिनता हैं, वैसे ही जिले के कलेक्टर ओ.पी.श्रीवास्तव के वापस आने के लिए दिन गिनने पड़ रहे है कि आखिर कब कलेक्टर आऐंगे और जिले के काम सुचारू रूप से होंगे।

दरअसल शिवपुरी में लंबे समय से प्रभारी कलेक्टर नेहा मारव्या और प्रदेश की खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया के बीच टकराव की स्थिति बनी हुई है। शिवपुरी में शुक्रवार को मंत्री यशोधरा राजे को क्राफ्ट रोड और तीन सड़कों का भूमि पूजन करना हैं। पिछले दिनों मंत्री यशोधरा के पीए गगन सक्सेना प्रभारी कलेक्टर के पास अनुमति लेने गए थे लेकिन प्रभारी कलेक्टर नेहा ने मंत्री के पीए को पत्र थमाकर लौटा दिया और कलेक्टर ओपी श्रीवास्तव की अनुपस्थिति में किसी तरह की अनुमति देने से साफ तौर पर इनकार कर दिया हैं। जिससे सियासत गरमा गई हैं।

अनुमति नहीं मिलने से मंत्री यशोधरा भड़क गई है और उन्होंने इस मामले की शिकायत चीफ सेक्रेटरी से की हैं। वहीं मंत्री यशोधरा कार्यक्रम में शामिल होने के लिए शिवपुरी पहुंच चुकी हैं। लंबे समय से दोनों के बीच गहमागहमी की चर्चा चल रही थी लेकिन अनुमति नहीं देने के बाद इस बार विवाद की स्थिति बनी हुई हैं।