Skip to content

सांसद दिया कुमारी का दावा- ताजमहल हमारी जमीन पर बना

Tags:
इस ख़बर को शेयर करें:


जयपुर के शाही घराने की सदस्य और भाजपा सांसद दिया कुमारी आगरा के प्रसिद्ध ताजमहल को लेकर हो रहे विवाद में कूद पड़ी हैं। बुधवार को मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि जिस जमीन पर ताजमहल बना है, पहले उस जमीन पर जयपुर शाही घराने का महल हुआ करता था, जिस पर शाहजहां से कब्जा कर लिया था। उन्होंने कहा कि उनके पास ये दावा साबित करने के लिए दस्तावेज भी मौजूद हैं।


क्या बोलीं दिया कुमारी?
ताजमहल पर जयपुर शाही घराने का दावा करते हुए दिया कुमारी ने कहा कि उनके पास ऐसे दस्तावेज हैं जो बताते हैं कि ताजमहल वाली जगह पर पहले उनके घराने का एक महल था, जो शाहजहां को पसंद आ गया और उसने उस पर कब्जा कर लिया। उन्होंने कहा कि चूंकि उस समय मुगलों का शासन था, इसलिए उनका परिवार इसका विरोध नहीं कर पाया। उन्होंने कहा कि इसकी जांच होनी चाहिए कि वहां ताजमहल से पहले क्या था।

शाहजहां ने मुआवजा दिया था, लेकिन पता नहीं कितना- दिया कुमारी
दिया कुमारी ने आगे कहा, “मैंने सुना है कि जमीन पर कब्जे के बदले में शाहजहां ने कुछ मुआवजा दिया था। लेकिन यह कितना था, इसे स्वीकार किया गया या नहीं, मुझे इसकी जानकारी नहीं है क्योंकि मैंने पूरे दस्तावेज नहीं पढ़े हैं। लेकिन जमीन हमारे परिवार की थी और शाहजहां ने उस पर कब्जा किया था। उस समय ऐसा कोई कानून नहीं था कि इसके खिलाफ अपील कर सकते या इसके विरोध में कुछ कर सकते।”

राजकुमारी बोलीं- कोर्ट कहे तो दस्तावेज प्रदान करने को तैयार
अपने दावे के पक्ष में सबूतों पर राजकुमारी दिया ने कहा कि शाही घराने के उनके ट्रस्ट में ‘पोथीखाना’ है जिसमें तमाम दस्तावेज मौजूद हैं। उन्होंने कहा, “अगर कोर्ट आदेश देगा तो हम दस्तावेज प्रदान करेंगे। हमारे पास मौजूद दस्तावेजों में यह बात साफ है कि शाहजहां को महल अच्छा लगा और उसने उस पर कब्जा कर लिया।”
क्या महल में कोई मंदिर था, इस पर उन्होंने कहा कि उन्होंने पोथीखाने के सभी दस्तावेज नहीं देखे हैं।

दिया ने किया ताजमहल के बंद कमरों को खोलने का समर्थन
अपने बयान में राजकुमारी दिया ने ताजमहल के बंद कमरों को खुलवाने के लिए डाली गई याचिका का भी समर्थन किया। उन्होंने कहा, “मैं यह तो नहीं कहूंगी कि ताजमहल को तोड़ देना चाहिए, लेकिन उसके कमरे खोले जाने चाहिए। ताजमहल में कुछ कमरे बंद हैं। कुछ हिस्से वहां लंबे वक्त से सील हैं। इस पर निश्चित तौर पर जांच होनी चाहिए और उन्हें खोलना चाहिए, जिससे यह पता चले कि वहां क्या था, क्या नहीं था।”

भगवान राम का वंशज होने का दावा भी कर चुकी हैं दिया कुमारी
बता दें कि दिया कुमारी इससे पहले भगवान राम का वंशज होने का दावा भी कर चुकी हैं। उन्होंने कहा था कि वह अपने परिवार के वंश को साबित करने के लिए सुप्रीम कोर्ट सबूत भी प्रदान करने को तैयार हैं।

अभी विवादों में क्यों है ताजमहल?
भाजपा के अयोध्या जिले के मीडिया प्रभारी डॉ रजनीश सिंह ने इलाहाबाद हाई कोर्ट में याचिका दायर करते हुए ताजमहल के बंद पड़े 22 कमरों को खोलने की मांग की है। अपनी याचिका में उन्होंने कहा कि ऐसा माना जाता है कि ताजमहल शिव मंदिर है और इन कमरों में हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियां और शिलालेख हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (ASI) को इन बंद कमरों का निरीक्षण करना चाहिए, ताकि सच्चाई सामने आ सके।