मप्र में ट्रक-बस हड़ताल , जनजीवन प्रभावित
भोपाल । टोल प्लाजा खत्म करने सहित अन्य मांगों को लेकर ट्रक ऑपरेटर्स की आज शुरू हुई देशव्यापी हड़ताल का मध्य प्रदेश में भी व्यापक असर नजर आ रहा है। ट्रकों के पहिये थमे हैं, जिससे आवश्यक वस्तुओं तक की आपूर्ति प्रभावित हो रही है। वहीं, केंद्र सरकार के नए सड़क सुरक्षा कानून के खिलाफ राज्य में कई स्थानों पर बसों के चालक और परिचालक के हड़ताल पर चले जाने से आम आदमी की मुसीबत बढ़ गई है। ट्रक एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष परमवीर सिंह ने बताया कि राष्ट्रीय स्तर पर टोल प्लाजा को खत्म किए जाने, सड़क परिवहन एवं सुरक्षा कानून 2015 में किए गए प्रावधानों के विरोध में ट्रक ऑपरेटर्स ने गुरुवार से देशव्यापी अनिश्चितकालीन हड़ताल बुलाई गई है। राज्य में 40 हजार से ज्यादा ट्रक हैं, जिनके पहिये हड़ताल की वजह से थम गए हैं। उन्होंने बताया कि इस हड़ताल का पूरे राज्य में व्यापक असर है। इसके साथ ही बसों के चालक और परिचालक भी नए कानून को लेकर एक दिवसीय हड़ताल पर हैं, जिसका आम जनजीवन पर असर पड़ रहा है। राजधानी भोपाल, इंदौर, उज्जैन सहित राज्य के अधिकांश स्थानों पर निजी बसों के चालक व परिचालकों की हड़ताल से बसों के पहिये भी थमे हुए हैं, जिसके कारण बस स्टैंडों पर यात्रियों की भीड़ है और वे अपने गंतव्य तक नहीं पहुंच पा रहे हैं। निजी बसों के चालकों और परिचालकों ने स्कूली बसों को भी जगह-जगह रोका।