मौड्रिच ने जीता बैलों डि ओर पुरस्कार

इस ख़बर को शेयर करें:

क्रोएशिया और रियाल मैड्रिड के मिडफील्डर ल्युका मौड्रिच ने जीता साल 2018 का प्रतिष्ठित बैलों डि ओर पुरस्कार। इस खिताब को जीतने का क्रिस्टियानो रोनाल्डो और लायोनेल मैसी का पिछले 10 साल का रिकार्ड तोड़ा। मौड्रिच के शानदार प्रद्रर्शन की बदौलत रियाल मैड्रिड ने इस साल लगातार तीसरी बार जीता चैम्पियंस लीग का खिताब।

लुका मॉड्रिक आखिरकार दुनिया के दो दिग्गज फुटबॉलरों क्रिस्टियानो रोनाल्डो और लियोनल मेसी का बैलोन डी’ ओर पुरस्कार पर पिछले एक दशक से चला आ रहा वर्चस्व खत्म कर ही दिया।
क्रोएशिया को पहली बार फीफा विश्व कप के फाइनल में पहुंचने वाले करिश्माई कप्तान लुका ने रियल मैड्रिड के ही अपने पूर्व साथी पुर्तगाल के रोनाल्डो और पेरिस सेंट जर्मेन (पीएसजी) व फ्रांस के कलियान म्बापे और एटलेटिको मैड्रिड के एंटोनी ग्रिजमैन को पछाड़कर पहली बार बैलोन डी’ ओर की ट्रॉफी पर कब्जा कर लिया।

33 वर्षीय लुका यह पुरस्कार जीतने वाले क्रोएशिया के पहले फुटबॉलर बने। लुका ने पिछले सत्र में रियल मैड्रिड को लगातार तीसरी बार चैंपियंस लीग की ट्रॉफी दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी।

रोनाल्डो और मेसी ने पिछले दस वर्षों में (2008 से 2017 तक) रिकॉर्ड पांच-पांच बार यह पुरस्कार जीता है। इन दोनों से पहले आखिरी बार ब्राजील और एसी मिलान के काका ने 2007 में यह ट्रॉफी जीती थी। पांच-पांच बार यह दोनों खिलाड़ी उपविजेता रहे हैं।

फ्रांस और पेरिस सेंट जर्मेन के युवा फॉरवर्ड काइलियन म्बापे को साल का सर्वश्रेष्ठ युवा खिलाड़ी चुना गया। याद हो कि ब्राजील के महान फुटबॉलर पेले के बाद विश्व कप में गोल दागने वाले म्बापे दूसरे सबसे युवा खिलाड़ी बने थे। 1958 में पेले ने यह उपलब्धि हासिल की थी।