मुद्रा योजना ने बदली मुंबई के शैलेश की ज़िंदगी

इस ख़बर को शेयर करें:

जहां चाह, वहां राह! इस कथनी को करनी में बदल दिया है नवी मुंबई के शैलेष भोंसले ने, जिन्होंने मुद्रा योजना के सहारे न केवल खुद को आत्मनिर्भर बनाया बल्कि दूसरों के लिए भी रोजगार के अवसर तैयार किए।

सूचना तकनीक के सहारे स्वच्छ भारत अभियान में स्वरोजगार का मौका खोज निकालने वाले नवी मुंबई के शैलेष भोंसले आज दूसरों को रोजगार दे रहे हैं। बारहवीं तक पढ़े शैलेश इस कामयाबी का श्रेय प्रधानमंत्री मुद्रा योजना को देते हुए कहते हैं कि इस योजना ने उनकी दुनिया बदल दी।

शैलेष पहले घरों से कूड़ा साफ़ करने का काम करते थे। इसी क्रम में उन्हें किसी ने मुद्रा योजना के बारे में बताया और शैलेष ने कुछ बड़ा सोचा। शैलेष ने बिना देर किए नजदीक की बैंक शाखा से संपर्क किया। बैंक से उन्हें मुद्रा योजना के तहत “तरुण श्रेणी” में कर्ज मिल गया।

शैलेष ने पहले एक और फिर दो सफ़ाई टैंक लिए और ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर खुद को रजिस्टर्ड करवाकर कर काम शुरू कर दिया। आज शैलेष न केवल आत्मसम्मान के साथ जी रहे हैं बल्कि छह लोगों को रोजगार भी दिया है।