संगीत में युद्ध और आतंकवाद की पीड़ाओं को दूर करने की क्षमता है: उपराष्ट्रपति

इस ख़बर को शेयर करें:

पराष्ट्रपति, श्री एम. वेंकैया नायडू ने कहा है कि संगीत युद्ध और आतंकवाद की पीड़ाओं को दूर करने की क्षमता रखता है और एकता के संदेश प्रसारित करता है। श्री नायडू ने आज मुंबई में नेशनल सेंटर फॉर द परफॉर्मिंग आर्ट्स (एनसीपीए) के दक्षिण एशियाई सिम्फनी ऑर्केस्ट्रा के “चिराग” संगीत कार्यक्रम के अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि संगीत की भाषा सार्वभौमिक और भौगोलिक सीमाओं से परे है। संगीत लोगों को एकजुट करता है।

श्री नायडू ने अफगानिस्तान के नन्‍हें बालकों को प्रशिक्षित करने के लिए डॉ. अहमद सरमस्त की सराहना की जिन्होंने सभी बाधाओं को पार करते हुए संगीत कार्यक्रम में अपनी प्रस्‍तुति दी। उपराष्‍ट्रपति ने कहा कि युवा कलाकारों ने सिद्ध कर दिया है कि उनका संगीत मानवीय भावना का सर्वोत्‍तम प्रतीक है और यह शांति और सद्भाव की सार्वभौमिक भाषा का प्रसार करता है।

उपराष्ट्रपति ने दक्षिण एशियाई सिम्फनी ऑर्केस्ट्रा जैसे संगठनों से शांति और अहिंसा के संदेश को फैलाने का आह्वान किया ताकि बुद्धि रहित हिंसा जैसे मार्ग पर चलने वाले गुमराह व्‍यक्तियों के मन से द्वेष रूपी विकारों को दूर किया जा सके। श्री नायडू ने कहा कि चिराग द्वारा आयोजित कार्यक्रम भारत और सभी देशों के बीच सहयोग और सह-अस्तित्व के प्रति लोगों की प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करते हैं।

उपराष्ट्रपति ने आशा व्‍यक्‍त की कि इस ऑर्केस्ट्रा के सदस्‍य और संगीतकार एक नवीन और पुनरुत्थानवादी दक्षिण एशिया के राजदूत बनें। उपराष्‍ट्रपति ने उनसे प्राचीन सभ्यता के सार जैसे-शांति, करुणा और सह-अस्तित्व पुन: जगाने और क्षेत्रीय एकता के लिए समान सांस्कृतिक समन्‍वय बनाने का आह्वान किया।सेवानिवृत्त वरिष्ठ सिविल अधिकारी, श्रीमती निरुपमा और श्री सुधाकर राव द्वारा दक्षिण एशियाई सिम्फनी फाउंडेशन की स्‍थापना की गई थी।

इसका उद्देश्‍य संगीत के दिव्य माध्यम से दक्षिण एशियाई क्षेत्र के लोगों को एकजुट करने हेतु एक अद्वितीय परियोजना- अर्थात एक सिम्फनी ऑर्केस्ट्रा तैयार करना रहा है।श्री नायडू ने कहा कि संगीत एक शक्तिशाली कला के रूप में हमारे जीवन की गुणवत्ता को बदल सकता है।

उन्‍होंने दक्षिण एशियाई सिम्फनी फाउंडेशन को इस क्षेत्र से स्वदेशी संगीत के प्रदर्शनों का निर्माण करने और दुनिया भर में शांति और भाईचारे के सार्वभौमिक संदेश प्रसारित करने को कहा।उपराष्ट्रपति और उपस्थित गणमान्‍यजनों ने हाल ही में श्रीलंका के कोलंबो में हुए नृशंस आतंकी हमले में जान गंवाने वालों की याद में मौन धारण कर उन्‍हें अपनी श्रद्धांजलि भी अर्पित की।

इस अवसर पर, महाराष्ट्र के राज्यपाल, श्री सी. विद्यासागर राव, अफगानिस्तान, श्रीलंका, नेपाल, भारत और अन्य देशों से 70 से ज्‍यादा संगीतकार, ऑर्केस्ट्रा संचालक श्री विश्व सुब्बारमण, चिराग के संस्थापक, श्रीमती निरुपमा और श्री सुधाकर राव के अलावा प्रख्यात संगीतकार एवं मुम्‍बई से संगीत कला प्रेमी उपस्थित थे।

उपराष्ट्रपति के संबोधन का पाठ इस प्रकार है:”आज हम एक महत्वपूर्ण अवसर का साक्षी बनने के लिए यहां एकत्रित हुए हैं- जिसके माध्‍यम से हम यह प्रदर्शित करते हैं, कि हम भारत में, एक देश और लोगों के रूप में, सभी देशों के बीच सहयोग और सह-अस्तित्व के प्रति समर्पित हैं।

सेवानिवृत्त वरिष्ठ सिविल अधिकारी श्रीमती निरुपमा और श्री सुधाकर राव द्वारा दक्षिण एशियाई सिम्फनी फाउंडेशन की स्‍थापना इस उद्देश्‍य से की गई थी कि संगीत के दिव्य माध्यम से दक्षिण एशियाई क्षेत्र के लोगों को एकजुट करने हेतु एक अद्वितीय परियोजना- अर्थात एक सिम्फनी ऑर्केस्ट्रा तैयार किया जा सके।संगीत की भाषा सार्वभौमिक और भौगोलिक सीमाओं से परे है।

संगीत लोगों को एकजुट करता है। हमने भारत में, हमेशा से यह स्‍वीकार किया है कि संगीत कार्यक्रम योग अथवा आध्यात्मिक अनुशासन का एक प्रभावी रूप हैं। इसी प्रकार से एक ऑर्केस्ट्रा में भी कई संगीतकार एकसाथ शामिल होते हैं। ऑर्केस्ट्रा के प्रत्येक सदस्य को अपने स्वयं के साधन पर गहराई से ध्यान केंद्रित करना पड़ता है, लेकिन साथ ही साथ इसे अन्य संगीतकारों के साथ सामन्‍जस्‍य भी स्‍थापित करना पड़ता है।

यह आपकी अपनी पहचान को संरक्षित करने और साथ ही एक व्‍यापक, सहयोगी प्रयास का हिस्सा होने का एक सर्वोच्च उदाहरण है। राष्ट्रों और मानवों के बीच संबंधों में, यह संभवतः एक साथ रहने और कार्य करने की वह क्षमता है जो सभी अंतरों को मिटा सकता है।

महान संगीतकार, रॉबर्ट शुमान ने एक बार कहा था कि व्‍यक्तियों के अंधकार से परिपूर्ण हृदयों में प्रकाश लाना एक कलाकार का कर्तव्य है।संगीत एक शक्तिशाली कला रूप है जो हमारे जीवन की गुणवत्ता को बदल सकता है। मेरा विश्‍वास ​​है कि दक्षिण एशियाई सिम्फनी ऑर्केस्ट्रा अपने कार्यक्रम चिराग के माध्यम से, एक नवीन मार्ग प्रशस्‍त करेगा जिससे दक्षिण एशियाई लोगों के बीच लंबे समय से मौजूद सांस्कृतिक सहयोग और संवाद को और मजबूती मिल सकेगी।

दक्षिण एशिया को आर्थिक और सांस्कृतिक रूप से और अधिक एकीकृत करने की आवश्यकता है, और क्षेत्र में लोगों से लोगों के बीच संबंध और समझ को और बढ़ना चाहिए ताकि हम अपनी पूर्व विरासतों को भूलते हुए जिसने हमें एक-दूसरे से अलग, विभाजित किया हुआ है, एकसाथ आगे बढ़ सकें।मुझे प्रसन्‍नता है कि दक्षिण एशियाई सिम्फनी ऑर्केस्ट्रा में कई दक्षिण एशियाई देशों के संगीतकार और दक्षिण एशियाई प्रवासी शामिल हैं।

यह ऑर्केस्ट्रा संगीत के माध्यम से रचनात्मक अभिव्यक्ति के समर्पित विभिन्‍न देशों के बहनों और भाइयों का एक सुंदर समूह है।यह शांति की भाषा बोलता है और विचारों को एकजुट बनाते हुए हमें उस असीम अनुभव तक पहुंचाता है। हमें सिर्फ इस कार्यक्रम तक ही सीमित नहीं रहना चाहिए।

दक्षिण एशियाई सिम्फनी फाउंडेशन को अब ऐसे क्षेत्रीय स्वदेशी संगीत की प्रस्‍तुति और रचना के बारे में विचार करना चाहिए जिसे सम्‍पूर्ण विश्‍व में सुनाया जा सके।हम अपने क्षेत्र में प्राचीन गांधार और हिंदू कुश की पहाडि़यों से लेकर सिंधु और गंगा के नदी ज