नागा महिलाओं के प्रतिनिधि‍मंडल ने डॉ जितेन्द्र सिंह से मुलाकात की

नई दिल्ली: मणिपुर से संबंधित नागा महिलाओं और ‘वूमेन फॉर जस्‍ट पीस’ के प्रतिनिधिमंडल ने केन्द्रीय पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास (स्वतंत्र प्रभार), प्रधानमंत्री कार्यालय, परमाणु उर्जा एवं अंतरिक्ष, कार्मिक, लोक शिकायत पेंशन राज्य मंत्री श्री जितेन्द्र सिंह से मुलाकात की और क्षेत्र में शांति बनाए रखने की आह्वान किया।

डॉ जितेन्‍द्र सिंह को दिए गए एक ज्ञापन पत्र में प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि 8 दिसंबर, 2016 को मणिपुर सरकार द्वारा 7 नए जिलों को बनाने की घोषणा के बाद लगातार अशांति और नाकाबंदी की स्थिति बनी हुई है जिससे आम लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। नागा समुदाय और इसकी महिलाएं इस समस्‍या का शीघ्र समाधान चाहते है जो राज्‍य में शांति और आपसी भाईचारे को बुरी तरह से प्रभावित कर रहा है।

ज्ञापन पत्र में कहा गया कि मणिपुर सरकार और युनाइटेड नागा काउंसिल द्वारा लिए गए रूख पर ध्‍यान केंद्रित किए बिना आम लोगों और राज्‍य में आवागमन कर रहे लोगों की परेशानी शीघ्र समाप्‍त होनी चाहिए। उन्‍होंने इस बात पर चिंता व्‍यक्‍त की राज्‍य में हिंसा और आंदोलन का माहौल विभिन्‍न समुदायों के बीच टकराव का परिणाम है और शांति सुनिश्चित करने के लिए इसका शीघ्र समाधान करने की आवश्‍यकता है।

एक अन्‍य ज्ञापन पत्र में प्रति‍निधिमंडल ने विश्‍वास व्‍यक्‍त किया कि केवल प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी के नेतृत्‍व में ही मणिपुर के लोगों के लिए शांति, सम्‍मान और विश्‍वास का माहौल सुनिश्चित किया जा सकता है।

डॉ जितेन्‍द्र सिंह ने प्रतिनिधिमंडल के साथ विस्‍‍तृत विचार विमर्श किया और उन्‍हें सूचित किया कि केंद्र सरकार मणिपुर में शांति और समृद्धि बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध है।