हर्बल मेडिसीन के बाजार में आयुर्वेद से भारत दे सकता है बड़ा योगदान

हरिद्वार। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हरिद्वार में पतंजलि रिसर्च सेंटर के शुभारंभ अवसर पर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने पतंजलि रिसर्च सेंटर का अवलोकन किया और यहां उपलब्ध मशीनों के बारे में जाना। योग गुरू बाबा रामदेव ने उन्हें आयुर्वेदिक और जड़ी बूटियों के माध्यम से होने वाली रिसर्च को लेकर जानकारी दी। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समारोह के मंच पर पहुंचे। उन्हें बाबा रामदेव द्वारा राष्ट्र ऋषी सम्मान से सम्मानित किया गया।

इस दौरान सम्मान पत्र का वाचन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राष्ट्र सेवा की उपलब्धियों का वर्णन करते हुए किया गया जिसमें स्वच्छ भारत अभियान, सर्जिकल स्ट्राईक और अन्य कार्यों का उल्लेख था। उन्हें सम्मान पत्र प्रदान किया गया। इस दौरान आचार्य बालकृष्ण भी विशेषतौर पर उपस्थित थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पतंजलि संस्थान और योग गुरू बाबा रामदेव ने यह सम्मान देकर उनकी जिम्मेदारियों को बढ़ा दिया है। उन्होंने मुझे इस तरह सम्मानित कर सरप्राइज़ दिया है।

हमें जो सम्मान मिलता है उसका कारण लोगों की अपेक्षाओं का होना होता है। उनका कहना था कि योग आत्मा की चेतना के लिए आवश्यक है। उनका कहना था कि बाबा रामदेव ने योग को घर घर तक पहुंचाया। उन्हें यह बताया कि योग करने के लिए हिमालय पर जाने की जरूरत नहीं है वह तो घर के कमरे में भी किया जा सकता है।

उन्होंने बाबा रामदेव की सराहना की और कहा कि उन्होंने आयुर्वेद की परंपरा को विश्वभर में स्थापित करने का बीड़ा भी उठाया। उन्होंने कहा कि आज के दौर की आवश्यकता हर्बल मेडिसीन है। आज हर्बल मेडिसीन का एक बड़ा बाजार है और आयुर्वेद को बढ़ाकर इसमें भारत बेहतर कर सकता है। योग गुरू बाबा रामदेव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों ने भारत को विश्व गुरू का स्तर प्रदान किया है। इतना ही नहीं देश के लिए मोदी जो कार्य कर रहे हैं उसमें मेरी ओर से भी आहूती दी जाएगी।