दिव्यंगजन सशक्तिकरण 2018 के लिए राष्ट्रीय पुरस्कर

इस ख़बर को शेयर करें:

नई दिल्ली के विज्ञान भवन में दिव्यंगजन सशक्तिकरण 2018 के लिए कल उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने राष्ट्रीय पुरस्कर प्रदान किये।

नई दिल्ली के विज्ञान भवन में दिव्यंगजन सशक्तिकरण 2018 के लिए कल उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने राष्ट्रीय पुरस्कर प्रदान किये। इस मौके पर उपराष्ट्रपति ने कहा कि देश दिव्यांगजनों के साथ है और बिना दिव्यांगजन विकास के देश का विकास सम्भव नहीं है। उन्होने देश के व्यवसायिक जगत से दिव्यांगजनों के लिए रोज़गार क्षेत्र में भागीदारी बढ़ाने की बात कही।

प्रत्येक ३दिसंबर को अंतरराष्ट्रीय डिव्यंगजन दिवस पर दिव्यंगजनों के लिए कार्य करने वाले उत्कृष्ट व्यक्तियों को राष्ट्रीय पुरस्कार दिए जाते हैं।नई दिल्ली के विज्ञान भवन में इन पुरस्कारों के वितरण के अवसर पर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा कि देश दिव्यांगजनों के साथ है और बिना दिव्यांगजन विकास के देश का विकास सम्भव नहीं है।उन्होने देश के व्यवसायिक जगत से दिव्यांगजनों के लिए सीएसआर और रोज़गार क्षेत्र में भागेगारी बढ़ाने की बात कही।

इस मौके पर सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावर चंद गेहलोत ने कहा कि उनका मंत्रालय लगातार दिव्यांजनों के लिए काम कर रहा है और पिछले चार सालों में सात हजार से अधिक कैंप लगाकर 12लाख लाभार्थियों के लिए 700 करोड़ से अधिक की राशि खर्च की। देश में 5 स्पोर्ट्स सेन्टर बनाए जा रहे है और सिहोर में मानसिक पुनर्वास केंद्र स्थापित किया जा रहा है। वर्तमान में राष्ट्रीय पुरस्कार 14व्यापक श्रेणियों में प्रदान किए जाते है। और इस वर्ष उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू के द्वारा 14 श्रेणियों में 72पुरस्कारों दिए गए।