दंतेवाड़ा में डीडी न्यूज़ की टीम पर नक्सली हमले की देश भर में निंदा

इस ख़बर को शेयर करें:

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में मंगलवार को डीडी न्यूज की टीम पर हुए नक्सली हमले की चौतरफा निंदा हो रही है. वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों, प्रेस क्लब ऑफ इंडिया और मीडिया से जुड़े तमाम संस्थानों ने नक्सलियों के इस हमले की भर्त्सना की है.

छत्तीसगढ़ में हुए नक्सली हमले के शहीदों की याद में देश गमगीन है. हर तरफ इस हमले की निंदा हो रही है और नक्सलियों के इस कृत्य की भर्त्सना हो रही है. केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने इस हमले की कड़े शब्दों में निंदा की और डीडी न्यूज़ के कैमरामैन और शहीद जवानों की मौत पर दुख जताया.

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने इस नक्सली हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है. उन्होंने इस हमले में शहीद पुलिस के दो जवानों और डीडी न्यूज़ के कैमरामैन की शहादत पर गहरा दु:ख जाहिर करते हुए कहा कि लोगों को हिंसा और आतंक के खिलाफ एकजुटता का परिचय देना चाहिए.

केंद्रीय मंत्रियों ने हमले की निंदा करते हुए शहीदों को श्रद्धांजलि दी. वित्त अरुण जेटली ने ट्वीट किया, ‘नक्सलियों ने छत्तीसगढ़ के अरनपुर में पुलिसकर्मियों और डीडी न्यूज के कैमरामैन की हत्या कर अपनी कायरता का परिचय दिया है. सरकार हर स्तर पर नक्सलियों की इस हताश का कड़ा जवाब दे रही है. पुलिस और प्रेस पर हमला हर तरह से घृणित कृत्य है.’

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने भी नक्सलियों की कायराना हरकत की निंदा की है. उन्होंने डीडी न्यूज कैमरामैन समेत दो शहीद जवानों के प्रति संवेदना जताई है.

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने दंतेवाड़ा में हुए नक्सली हमले को कायराना हरकत बताया. उन्होंने कहा कि इस तरह के हमले की जितनी निंदा की जाए उतनी कम है. उन्होंने शोक में डूबे परिवारों के प्रति अपनी संवेदनाएं जाहिर की.

बीजेपी ने छत्तीसगढ़ में हुए नक्सली हमले की निंदा करते हुए डीडी न्यूज़ के कैमरामैन अच्युतानंद साहू की मृत्यु पर दु:ख व्यक्त किया. प्रेस एसोसिएशन ने भी हमले की कड़ी निंदा की है.

नक्सलियों की ये कायरना हरकत उनकी हताशा का प्रतीक बताई जा रही है. सरकार नक्सलियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर रही है, जिससे नक्सली बौखलाए हुए हैं. इस साल 31 अगस्त तक छत्तीसगढ़ में माओवादी हिंसा की 279 घटनाएं हुई हैं, जिसमें 64 नागरिकों की मौत हुई और 39 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए हैं. सुरक्षाबलों के अभियान में 89 माओवादियों को मार गिराया गया है, जबकि सवा छह सौ माओवादियों को गिरफ्तार भी किया गया है. इसके अलावा करीब 225 माओवादियों ने सरेंडर भी किया है.