मध्य प्रदेश के 5 जिलों में कल से रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक लागू होगा रात्रि कर्फ्यू, केवल इन्हें मिलेगी छूट

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य के 5 जिलों में रात्रि कर्फ्यू (Night curfew in Madhya Pradesh) लगाने का फैसला किया है. शुक्रवार को राज्य सरकार ने इसकी घोषणा की. रात्रि कर्फ्यू रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक लागू होगा.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, विदिशा और रतलाम जिलों में 21 नवंबर से रात 10 बजे से सुबह 6 बजे के बीच कर्फ्यू लगाया जाएगा. उन्होंने कहा कि आवश्यक सेवाओं में लगे लोग और कारखाने के श्रमिकों को छूट दी गई है.

Loader
Loading...
EAD Logo
Taking too long?

Reload
Reload document
| Open
Open in new tab

20Nov नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन…..(क्लिक करें)

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, “हम सब कोरोना से बचाव के लिए आवश्यक सभी सुरक्षा उपायों को अपनाएं और मिलकर #COVID19 का पूर्व की भांति सामना करें. मास्क पहनें, परस्पर 2 गज की दूरी बनाए रखें और नियमित अंतराल में हाथ धोते रहें.” शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में अभी दोबारा लॉकडाउन की कोई योजना नहीं है. सीएम ने आज प्रदेश में COVID19 की स्थिति व रोकथाम की समीक्षा की.

राज्य में 8वीं तक के स्कूल 31 दिसंबर तक बंद रखने का फैसला लिया गया है। गुरुवार को राजधानी भोपाल में कोरोना के 425 मामले सामने आने और इंदौर में 313 मामलों के साथ कोरोना की तीसरी लहर आने के बाद मुख्यमंत्री ने कोरोना पर बैठक बुलाई थी, जिसमें यह फैसला लिया गया था।

नाइट कर्फ्यू पर फैसला कलेक्टर लेंगे
जिन शहरों में कोरोना का 5% से ज्यादा पॉजिटिविटी रेट है, वहां रात 10 से सुबह 6 बजे तक का कर्फ्यू रहेगा। 5% पॉजिटिविटी रेट यानी कोरोना के हर 100 टेस्ट में 5 टेस्ट पॉजिटिव पाए जाएं। ऐसे जिलों में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक के बाद वहां के कलेक्टर नाइट कर्फ्यू लगाने के बारे में आखिरी फैसला लेंगे।

बैठक में सीएम ने ये निर्देश दिए

  • 9वीं से 12वीं और कॉलेज के छात्र-छात्राएं विभाग द्वारा जारी दिश-निर्देशों के मुताबिक स्कूल-कॉलेज जा सकेंगे।
  • थिएटरों के लिए पहले की गाइडलाइन जारी रहेगी। यानी 50% सिटिंग कैपेसिटी की ही इजाजत होगी।
  • कल से हर जिले में क्राइसिस ग्रुप की रेगुलर बैठक होगी और सिफारिशें सरकार को भेजी जाएंगी।
  • शादियों में ज्यादा से ज्यादा कितने लोग इकट्ठा हो सकते हैं, इस पर फैसला बाद में होगा।
  • रात 10 से 6 बजे तक औद्योगिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे।
  • औद्योगिक मजदूरों के आवागमन और ट्रकों के परिवहन पर रोक नहीं रहेगी।
  • पूरे प्रदेश में मास्क लगाने पर सख्ती बढ़ाई जाएगी। इसे लागू करने की जिम्मेदार जिला प्रशासन की होगी।
  • सीएम खुद हर एक दिन छोड़कर कोरोना के मामलों का रिव्यू करेंगे।

लॉकडाउन से जुड़ा पुराना वीडियो वायरल
मंत्रालय में जब मुख्यमंत्री बैठक कर रहे थे, तभी उनका एक पुराना वीडियो वायरल हुआ। इसमें वे दो शहरों में लॉकडाउन की बात कर रहे हैं। ये वीडियो छह महीने पुराना है। वीडियो सामने आने के बाद यह माना जाने लगा कि मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन की घोषणा कर दी है। बाद में सरकार ने स्थिति साफ की कि यह घोषणा पुरानी थी।

हरियाणा की स्थिति के बाद यू-टर्न
सरकार कई दिनों से स्कूल-कॉलेज के बारे में सोच रही थी। स्कूल शिक्षा विभाग ने एक प्रस्ताव भी भेजा था। इसमें कहा गया था कि 20 नवंबर के बाद स्कूल खोले जा सकते हैं, लेकिन मुख्यमंत्री ने अब साफ कर दिया है कि इन्हें अभी बंद ही रखा जाएगा। दरअसल, हरियाणा में स्कूल खोले जा चुके हैं और कई जिलों में अब तक 119 बच्चे संक्रमित हो चुके हैं।