जबलपुर: रात 8.30 बजे तक खुल सकेंगी दुकानें, रात नौ बजे लागू होगा रात्रिकालीन कर्फ्यू

भारत सरकार द्वारा तय की गई गाईड लाइन के अनुसार कल से खुल सकेंगे जिम, जिला दंडाधिकारी श्री यादव ने जारी किया आदेश

जबलपुर। जिला दंडाधिकारी एवं कलेक्टर भरत यादव ने अनलॉक-3 के तहत आज एक आदेश जारी कर दुकानों के खुलने की अवधि को एक घंटे बढ़ा दिया है जबकि रात्रिकालीन कर्फ्यू  की समयावधि में एक घंटे की कमी की है। जिले में सभी दुकानें प्रतिदिन प्रात: 6 बजे से रात्रि 8.30 बजे तक खुली रह सकेंगी। जबकि रात्रिकालीन कफ्र्यू अब रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक लागू रहेगा।

आदेश में योग संस्थानों और जिम्नेजियम को भी गुरुवार 6 अगस्त से भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा जारी गाईड लाइन का पालन करने की शर्तों के साथ खोलने की अनुमति प्रदान कर दी गई है। लेकिन कंटेनमेंट जोन के भीतर जिम्नेजियम और योग संस्थानों को नहीं खोला जा सकेगा। जिला दंडाधिकारी द्वारा जारी आदेश में स्पष्ट किया गया है कि कंटेनमेंट जोन में सभी तरह की गतिविधियां पूर्णत: प्रतिबंधित रहेंगी और लॉकडाउन का आदेश लागू रहेगा।

आदेश के अनुसार जिले में स्कूल, महाविद्यालय, शैक्षणिक और कोचिंग संस्थान आगामी आदेश तक बंद रहेंगे। केवल दूरस्थ अथवा ऑनलाइन शिक्षा की अनुमति जारी रहेगी। सिनेमा हाल, स्वीमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, थियेटर, मदिरालय (बार), ऑडिटोरियम, असेम्बली हॉल तथा इसी प्रकार के अन्य स्थान भी बंद रहेंगे। इसके साथ ही सामाजिक, राजनैतिक, खेलकूद, मनोरंजन, एकेडमिक, सांस्कृतिक, धार्मिक आयोजनों तथा अन्य बड़े सम्मेलनों पर रोक रहेगी।

जिला दंडाधिकारी द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि शेष सभी प्रतिबंध पूर्ववत लागू रहेंगे। फिजिकल डिस्टेसिंग का सभी को पालन करना अनिर्वाय होगा। सार्वजनिक स्थलों पर फेस मास्क लगाना अनिवार्य होगा। सार्वजनिक स्थल पर पांच या पांच से अधिक व्यक्ति एकत्र नहीं हो सकेंगे। धार्मिक स्थल अथवा पूजा स्थलों पर भी पांच या पांच से अधिक व्यक्ति एकत्र नहीं हो सकेंगे। शादी समारोह में वर एवं वधू पक्ष सहित केवल 20 व्यक्तियों के शामिल होने की अनुमति होगी। मृत्यु संस्कार के दौरान भी 20 से अधिक व्यक्ति शामिल नहीं हो सकेंगे। मृतक के कोरोना पॉजिटिव होने पर केवल पांच व्यक्तियों को ही अंतिम संस्कार में शामिल होने की अनुमति होगी।

जिला दंडाधिकारी द्वारा जारी यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है और आगामी आदेश तक प्रभावशील रहेगा। आदेश के उल्लंघन करने वाले व्यक्ति के विरूद्ध आपदा प्रबंधन अधिनियम के प्रावधानों तथा भारतीय दंड संहिता की 188 एवं अन्य मामूली प्रावधानों के तहत कार्यवाही की जायेगी।