उत्तर-पूर्व राज्यों के विकास में किसी भी तरह की अड़चन नहीं आने देंगे: पीएम

इस ख़बर को शेयर करें:

प्रधानमंत्री ने कहा है कि उत्तर पूर्व के राज्यों के विकास में किसी भी तरह की कोई अड़चन नहीं होगी। केंद्र सरकार हर वो क़दम उठा रही है जिससे इन राज्यों की प्रगति हो सके। उन्होने उत्तर पूर्वी मंत्रालय के ज़रिए ख़ासतौर पर राज्यों की आर्थिक,सामाजिक विकास में कंधा से कंधा मिलाने की बात कही

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज आइजॉल में असम राइफल्‍स मैदान में 60 मेगावाट क्षमता की जल विद्युत परियोजना का उद्घाटन किया। राज्य के इतिहास में इस परियोजना को मील का पत्थर बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार का उद्देश्य पूर्वोत्तर के विकास को आगे बढ़ाना है। 1302 करोड़ की लागत से बनकर तैयार हुए इस प्रोजेक्ट से हर घर बिजली की योजना को राज्य में बल मिलेगा। साथ पर्यावरण के लिहाज से भी ये प्रोजेक्ट मिज़ोरम को फायदा पहुंचाएगा। पीएम मोदी ने कहा कि इस प्रोजेक्ट का पूरा होना सरकार का काम के प्रति प्रतिबद्धता का परिचायक है। टुइरियल हाइड्रोपावर प्रॉजेक्ट पहली बड़ी केंद्र सरकार की ऐसी परियोजना है जो मिजोरम में कमिशन्ड हो रही है।

इस परियोजना के शुरुआत के मौक़े पर प्रधानमंत्री ने कहा कि 30 सालों के लटकी इस परियोजना को पूरा होना मिज़ोरम को विद्युत ज़रुरतों को पूरा करेगा। साथ ही इस परियोजना से राज्य को बहुआयामी फायदे होंगे। इसके ज़रिए सभी को बिजली तो मिलेगी ही साथ ही बेहतर नेविगेशन और दूर-दराज़ के इलाक़ों में संपर्क भी बढ़ेगा।

साथ ही प्रधानमंत्री ने कहा कि उत्तर पूर्व के राज्यों के विकास में किसी भी तरह की कोई अड़चन नहीं होगी। केंद्र सरकार हर वो क़दम उठा रही है जिससे इन राज्यों की प्रगति हो सके। उन्होने उत्तर पूर्वी मंत्रालय के ज़रिए ख़ासतौर पर राज्यों की आर्थिक,सामाजिक विकास में कंधा से कंधा मिलाने की बात कही। साथ ही प्रधानमंत्री ने स्व-रोज़गार के लिए केंद्र की मुद्रा,स्टार्ट-अप योजनाओं का ज़िक्र किया। उन्होने मिज़ोरम में स्टार्ट-अप के लिए आगे आऐ युवाओं को चेक भी प्रदान किए। प्रधानमंत्री ने विश्वास जताया कि युवा रोज़गार के लिए इन योजनाओं का लाभ उठाऐंगे और उन्हे किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होगी।