मोतीलाल नेहरू चिकित्सालय में गर्भवती महिलाओं की पीड़ा सुनने वाला कोई नहीं

इस ख़बर को शेयर करें:

जबलपुर@ मोतीलाल नेहरू चिकित्सालय में गर्भवती महिलाओं की पीड़ा सुनने वाला कोई नहीं इसके साथ ही अमानवीय व्यवहार किया जा रहा है। ये आरोप भाजपा छात्रपति शिवाजी मंडल के अध्यक्ष संजय वर्मा ने लगाए। उनके साथ एक प्र​तिनिधि मंडल इस मामले की शिकायत छावनी अधिशासी अधिकारी से की गई। भाजपा के मंडल अध्यक्ष आशीष राव ने बताया कि मोतीलाल नेहरू अस्पताल में गर्भवती महिलाओं की जांच में उपयोग होने वाली सोनोग्राफी मशीनें,एक्सरे मशीन आए दिन खराब होना बताया जाता है ।

 गर्भवती महिलाओं को जरूरी दवाएं भी नहीं मिल रही है,उन्हें बाहर दुकान से दवा खरीदने की सलाह दी जाती है। उन्हें भटकने के अलावा और कुछ नहीं मिलता। इस बात का कई बार विरोध महिलाएं भी करती है लेकिन कोई सुनने वाला  नहीं । गरीब घरों से आने वाली महिलाओं को अस्पताल में जांच की कोई सुविधा ही नहीं मिल पाती है।

भाजपा नेताओं ने बताया कि कोविड के दौरान अस्पताल में सीजर आपरेशन वाले मामलों को नहीं लिया जा रहा है उन्हें अन्य जगह शिफ्ट किया जा रहा है। जबकि अन्य अस्पतालों में इस अवधि के दौरान भी ऐसे मामलों को लिया जा रहा है। ऐसे बर्ताव से गर्भवती महिलाएं बेहद परेशान हैं। भाजपा नेताओं ने साफ किया ​है कि यदि अस्पताल प्रबंधन ने इस व्यवस्थाओं को दुरूस्त नहीं किया तो आने वाले दिनों में उग्र आंदोलन किया जाएगा।

इस दौरान मंडल अध्यक्ष संजय वर्मा, आशीष राव, आशीष दास चौधरी, संजय जैन, राहुल कपूर, आकाश मलिक, चमन रजक, विजय पटेल, विकास यादव, राजेश श्रीवास, अंकित फ्रांसिस, रमा बावरिया, पिंकी पासी, ज्योति प्रजापति, दुर्गा सिंह,भूपेंद्र गौतम, अर्पित गुप्ता, सुचित विनोदिया आदि मौजूद रहे।