ससुराल में शौचालय न होने पर बहू मायके लौटी
उज्जैन। घर में शौचालय का न होना एक परिवार के लिए तब बहुत दुखदायी हो गया, जब उनकी नई-नवेली बहू ससुराल छोड़कर मायके चली गई। मामला उज्जैन विकासखंड के तहत आने वाले गांव सूरजनवासा का है, जहां की भागवंता बाई ससुराल में शौचालय नहीं होने पर विवाह के चार दिन बाद ही अपने मायके लौट गई।
जानकारी के अनुसार विकासखण्ड में जब गांव में भ्रमण पर गए कलेक्टर कवींद्र कियावत को वहां की आंगनवाड़ी कार्यकर्ता मनोरमा चौहान ने जानकारी में बताया कि कपेली गांव की भागवंता का विवाह 24 अप्रैल 2015 को यहां के विकास मालवीय के साथ सम्पन्न हुआ था, लेकिन ससुराल में शौचालय नहीं होने पर वह चार दिन बाद ही अपने माता-पिता के साथ मायके लौट गई थी। जाते-जाते कह गई थी कि जब तक शौचालय नहीं बनता, ससुराल नहीं लौटूंगी। विकास को शौचालय निर्माण के लिए सरकारी सहायता दिलाई गई है, वह घर में शौचालय बनवा रहा है। मनोरमा ने बताया कि यहां के 12 अन्य मकान और ऐसे हैं जहां शौचालय नहीं है।
शौचालय नहीं तो, हुक्का-पानी बंद
इस बात को लेकर कलेक्टर ने आधा दर्जन गांव के लोगों को चेतावनी दी है कि अगर उन्होंने चार दिन में शौचालय नहीं बनवाए तो उनका हुक्का-पानी बंद करवा देंगे। उन्होंने बताया कि वह जयवंतपुरा, मानपुरा, कड़छली, दुदरसी, कड़छा, हर्नियाखेड़ी, गांवड़ी, कासमपुरा, कोकड़िया, निकेवड़ी गांव गए थे, जहां घरों में शौचालय नहीं होने पर उन्होंने नाराजगी जताई। कहा कि शौचालय निर्माण शुरू नहीं किया तो हुक्कापानी बंद करवा दूंगा। निरीक्षण में एसडीएम क्षितिज शर्मा, तहसीलदार सीएस धार्वे, सीईओ अशोक उइके साथ थे।