रेलवे, सेना एवं केन्द्र शासन के संस्थानों को आपस में कोरोना मरीजों का करें डाटा शेयरिंग

जबलपुर । कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से निपटने की तैयारियों के तहत जिला प्रशासन द्वारा रेलवे, सेना एवं केंद्र शासन के विभिन्न संस्थानों के नोडल अधिकारियों की आज बुधवार को बुलाई गई बैठक में सन्दिग्ध और हाईरिस्क वाले मरीजों, संक्रमित व्यक्ति के नजदीकी सम्पर्क में आये लोगों तथा क्वारन्टीन और उपचार के बाद डिस्चार्ज किये गये मरीजों का डेटा एक-दूसरे से साझा करने पर जोर दिया गया है।                                                          

कलेक्टर भरत यादव ने बैठक की अध्यक्षता करते हुये कहा कि यह केंद्र एवं राज्य शासन के विभिन्न विभागों और संस्थानों के बीच बेहतर तालमेल का ही नतीजा है कि हम जबलपुर में कोरोना वायरस के संक्रमण को अभी तक नियंत्रित करने में कामयाब रहे हैं। लेकिन पिछले कुछ दिनों में जिस तेजी से कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ी है उसे देखते हुये अब हमें और ज्यादा सतर्कता बरतने और अतिरिक्त व्यवस्थायें करने की जरूरत है। श्री यादव ने बैठक में मौजूद अधिकारियों से कहा कि आने वाली चुनौती का आँकलन कर उपलब्ध संसाधनों के बेहतर इस्तेमाल की रणनीति हमें अभी से तैयार करनी होगी।

उन्होंने कोरोना के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिये सूचनाओं के त्वरित आदान-प्रदान पर जोर दिया। श्री यादव ने कहा कि डेटा शेयर करने से  हाई रिस्क और सन्दिग्ध मरीजों  तथा  संक्रमित व्यक्ति के नजदीकी सम्पर्क में आये  लोगों के स्वास्थ्य पर नजर  रखी जा सकेगी और जरूरत पडऩे पर सेम्पल लिया जाकर समय पर उनका उपचार प्रारम्भ किया जा सके। कलेक्टर ने बैठक में सेना और रेलवे के अस्पताल में कोरोना के हल्के लक्षण वाले मरीजों तथा गम्भीर रोगियों के उपचार की उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी भी ली।

उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि  आपस में बेहतर तालमेल स्थापित कर हम आगे भी जबलपुर में कोरोना के संक्रमण को नियंत्रित करने में कामयाब होंगे। बैठक में कोरोना के माईल्ड लक्षण वाले तथा गम्भीर रोगियों के उपचार की उपलब्ध सुविधाओं तथा इनके विस्तार की दिशा में किये जा रहे प्रयासों का ब्यौरा भी दिया गया। नगर निगम आयुक्त अनूप कुमार, जिला पंचायत के सीईओ प्रियंक मिश्रा, अपर क्लेक्टर हर्ष दीक्षित एवं संदीप जी आर, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ रत्नेश कुररिया भी इस बैठक में मौजूद थे।