8 मार्च को केरल की महिलाएं रचेंगी इतिहास

74

तिरुवनंतपुरम: 21वीं सदी की महिलाओं के हौसले आसमान पर हैं. विश्व में देश का मान-सम्मान बढ़ाने में महिलाएं घर की चार-दीवारी से निकल कामयाबी की नई कहानियां लिख रही हैं. अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर केरल की महिलाएं महिला सशक्तिकरण की एक नया इतिहास रचने जा रही है. केरल के DGP लोकनाथ बेहरा ने जिले के सभी पुलिस प्रमुखों (SHO) को 8 मार्च के दिन अपनी ड्यूटी महिला पुलिसकर्मियों के सुपुर्द करने का निर्देश जारी किया है.

8 मार्च के दिन ज्यादातर पुलिस स्टेशनों को महिला पुलिसकमिर्यों द्वारा संचालित किया जाएगा. वहीं जिन पुलिस स्टेशनों में महिला SHO नही है, उसमें सीनियर पुलिस अधिकारी अपनी ड्यूटी करेंगे. निर्देश में लिखा है कि महिला SHO ही लोगों से रुबरू होकर उनकी परेशानी समझेंगे और खुद जांच करेंगे. वहीं अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के दिन राज्य के मुख्यमंत्री की सुरक्षा में पुरुष कमांडो की जगह महिला कमांडो को तैनात किया गया है.

इसके साथ ही राज्य के मंत्री केके शेलजा ने बताया है कि अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर पहली बार ट्रेन महिलाएं चलाएंगी. 8 मार्च को वेनाड एक्सप्रेस महिला ट्रेन ड्राइवर द्वारा संचालित की जाएगी. गेटकीपर से लेकर लॉको पायलेट तक सभी कार्य महिलाओं द्वारा किया जाएगा. यहां तक कि टिकट बुकिंग काउंटर, पूछताछ केंद्र पर भी महिलाएं ही होंगी.