डेढ़-दो लाख लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पाठ पढ़ा रहे हैं वन नर्सरी श्रमिक

इस ख़बर को शेयर करें:

जबलपुर। वन विभाग की 171 नर्सरी में काम करने वाले लगभग 5 हजार श्रमिक अपने घर-पड़ोस और गाँव वालों को सोशल डिस्टेंसिंग का पाठ पढ़ाने के साथ कोरोना के खतरों से भी आगाह कर रहे हैं। स्थानीय मुख्य वन संरक्षक, अनुविभागीय अधिकारी और रेंज अधिकारी की देख-रेख में लगभग माह के 30 दिन काम करने वाले इन श्रमिकों को सोशल डिस्टेंसिंग का प्रशिक्षण दिया गया था। नर्सरी में प्रतिदिन सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाने से अब यह इनकी आदत में ही शामिल हो गया है। श्रमिकों की पहल से इनके परिवार और मित्रों के संपर्क में आने वाले करीब डेढ़ से दो लाख लोग भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं।

श्रमिकों को नर्सरी आने पर रोज ही एक बार पुन: प्रशिक्षण दिया जाता है। श्रमिक उनके लिए बनाए गए चूने के घेरों में ही खड़े रहकर प्रशिक्षण लेते हैं। श्रमिकों को हाथ धोने के लिये सेनेटाइजर एवं साबुन की व्यवस्था भी की गई है। मजदूरों को बिस्किट के पैकेट और पीने का पानी उपलब्ध करवाया जाता है। श्रमिकों को साप्ताहिक भुगतान किया जाता है।

जबलपुर में 570 जागरूकता शिविर

वन विभाग द्वारा 18 वन वृत्तों में कोरोना के विरूद्ध जागरूकता के प्रचार-प्रसार के लिए लगभग 3 हजार शिविर लगाए जा चुके हैं। इससे लाखों लोगों में कोरोना से बचाव के प्रति जागरुकता आई है। जबलपुर वन वृत्त में 570, सागर वनवृत्त में 240, भोपाल 500, छिंदवाडा 152, बैतूल 101, शिवपुरी 235, खण्डवा 228, छतरपुर 202, शहडोल 25, इंदौर 15, सिवनी 90, बालाघाट 115, उज्जैन 55, होशंगाबाद 78, रीवा 240 और ग्वालियर वनवृत्त में 155 जागरुकता शिविर लगाए जा चुके हैं।