संकल्प लेकर देश को गंदगीमुक्त बना सकते हैं देशवासी: पीएम मोदी

अगर संकल्प हो तो कोई भी काम आसानी से पूरा किया जा सकता है। इसी कड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जिस तरह से 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन के जरिए 1947 में देश आज़ाद हुआ, उसी तरह से 2017 में संकल्प लेकर 2022 तक देशवासी मिलकर देश को गंदगी से मुक्त बना सकते हैं। इसके लिए ज़रूरत है तो बस एक संकल्प की।

गंदगी हमारे और देश के लिए एक बड़ी समस्या बनी हुई है। लेकिन इससे मुक्ति पाई जा सकती है, बस ज़रूरत है एक संकल्प की। 1942 में भी एक संकल्प लिया गया। अंग्रेजों भारत छोड़ो। संकल्प सफल हुआ। निर्णायक आंदोलन के सार्थक नतीजे निकले। सिर्फ पांच साल के बाद देश आज़ाद हो गया।

यहां से भारत एक नई उड़ान भरने के लिए तैयार था। लेकिन यहां से कुछ समस्याएं भी थीं। उसकी वजह कोई और नहीं हम और आप ही थे। ये दिक्कत थी गंदगी। एक छोटा सा शब्द लेकिन जब इसके असर की बात करेंगे तो पाएंगे की न जाने कितने ही लोग इसके कारण अपनी जान तक गंवा देते हैं। क्या ये वाकई इतनी बड़ी समस्या है, जिसे हम और आप मिलकर ख़त्म नहीं कर सकते। तो जवाब हां ही होगा। बस ज़रूरत है एक संकल्प की।

देश के तमाम लोगों ने इरादा कर लिया है कि अब गंदगी को मिटाना है। क्या आपने किया। कब तक हम इस दलील के सहारे चलते रहेंगे कि सफाई करना तो सरकार का काम है। हां काम है, लेकिन हम लोगों का काम गंदगी फैलाना है क्या। नहीं, बिल्कुल नहीं। अगर नहीं तो क्यों न हम सब एक संकल्प लें, स्वच्छ भारत बनाने का। अपने सपनों के भारत को बनाने का। बस तो फिर एक कदम बढ़ाएं स्वच्छता की ओर।