पीएम ने ओडिशा को दी 14,500 करोड़ की विकास परियोजनाओं की सौगात

190

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज एक दिन के ओडिशा दौरे पर भुवनेश्वर पहुंचे. प्रधानमंत्री का राज्य के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने स्वागत किया. आईआईटी भुनवेश्वर में उन्होंने 14,523 करोड़ की विभिन्न परियोजनाओं का शुभारंभ व शिलान्यास किया.

इससे पहले उन्होंने पाइक विद्रोह के 200 साल पूरे होने के अवसर पर पाइक विद्रोह स्मारक मुद्रा, डाक टिकट और उत्कल विश्वविद्यालय के पाइक विद्रोह को लेकर शुरू किए जा रहे चेयर का उद्घाटन भी किया. 1817 में ब्रिटिश सरकार के खिलाफ हुए ये विद्रोह बक्‍शी जगबंधु के नेतृत्‍व में 200 साल पहले हुआ था.

प्रधानमंत्री ने इसके बाद ललितगिरी में पुरातत्‍व संग्रहालय का उद्घाटन किया. ये संग्रहालय 10 करोड़ की लागत से बना है. इसमें भगवान बुद्ध की विशाल प्रतिमा पर्यटकों के लिए विशेष आकर्षण का केंद्र होगा. इसमें बौद्ध धर्म से संबंधित कई देवी-देवताओं की प्रतिमाएं विद्यमान हैं. उन्होंने कहा कि ये राज्य के लिए एक गर्व का विषय है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ईएसआई अस्पताल के विस्तारीकरण का भी शिलान्यास किया. करीब 75.3 करोड़ की लागत से बने इस अस्पताल में अब 100 बेड होंगे और इसे अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस किया गया है.

उन्होंने इसके बाद भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान भुवनेश्वर के आईआईटी कैंपस को राष्ट्र को समर्पित किया. 936 एकड़ क्षेत्र में फैला ये कैंपस 1,765 विद्यार्थियों के लिए 149 संकायों के साथ शिक्षा और शोध के दरवाज़े खोलेगा. भविष्य में इसकी क्षमता और भी बढ़ाई जाएगी. प्रधानमंत्री ने इसके अलावा के बहरमपुर में आईआईएसईआर के नए भवन का लोकार्पण किया. ये तकरीबन 1582 करोड़ की लागत से तैयार हुआ है.

प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा योजना के तहत पारादीप-हैदराबाद के बीच पाइपलाइन के कार्य का शुभारंभ किया. इस परियोजना की अनुमानित लागत 3,800 करोड़ रुपये की होगी. इसके ज़रिए पेट्रोलियम उत्पादों की सप्लाई होगी. ये 1200 किमी लंबी पाइपलाइन होगी. इसके अलावा प्रधानमंत्री ने 3,437 करोड़ रुपये की गेल की जगदीशपुर-हल्दिया और बोकारो-धामरा गैस पाइपलाइन परियोजना के बोकारो-अंगुल खंड की भी आधारशिला रखी. ये प्राकृतिक गैस की सप्लाई को सुनिश्चित करेगी. दोनों ही परियोजनाएं 2 साल के अंदर बनकर तैयार हो जाएंगी. इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि ओडिशा जल्द ही पूर्वी भारत का पेट्रोलियम हब बनने वाला है.

प्रधानमंत्री अपनी इस यात्रा में राज्य के लिए कुल मिलाकर चार राजमार्गों से संबंधित विकास परियोजनाओं का शुभारंभ किया. उन्होंने राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-5 के चंडीखोले-भदरक खंड के 6-लेन मार्ग के चौड़ीकरण की आधारशिला रखी. इसके अलावा राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-42 के कटक-अंगुल खंड के चौड़ीकरण चार लेन मार्ग की आधारशिला रखी. प्रधानमंत्री ने टांगी-पुइंतोला खंड के 4 लेन का उन्नयन और 6-लेन मार्ग के चौड़ीकरण की आधारशिला रखी.

प्रधानमंत्री ने ओडिशा के खोर्धा में जनसभा को किया संबोधित

भुवनेश्वर में कई विकास परियोजनाओं का शुभारंभ करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा द्वारा आयोजित एक जनसभा को संबोधित करने पहुंचे. उन्होंने पाइका आंदोलन को याद करते हुए बदलाव की बात कही. प्रधानमंत्री ने ज़ोर देकर कहा कि भाजपा सिर्फ समावेशी विकास और सबके विकास के लिए काम करती है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि आयुष्मान भारत जैसी स्वास्थ्य योजनाएं, जो गरीबों के लिए वरदान हैं, उसमें राज्य शामिल नहीं है ये दु:ख की स्थिति है. प्रधानमंत्री ने राज्य में पलायन, कुपोषण, शिक्षा, स्वास्थ्य जैसे सामाजिक, आर्थिक मुद्दों पर राज्य सरकार पर खूब निशाना साधा.

उन्होंने किसानों के लिए केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं का ज़िक्र किया. उन्होंने कहा कि ई-नैम, नीम कोटिंग यूरिया से लेकर न्यूनतम समर्थन मूल्य को लागू कराने में केंद्र सरकार ने अपनी अहम भूमिका निभाई है.