पीएम मोदी ने किया स्वच्छ भारत दिवस पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित

इस ख़बर को शेयर करें:

गौरतलब है की स्वच्छता ही सेवा मुहिम से देश भर की कई नामचीन हस्तियां जुड़ी और इसने देश में स्वच्छता की जागरूकता फैलाने में काफी अहम योगदान दिया। विज्ञान भवन में स्वच्छता पखवाड़े के दौरान जनजागरूकता अभियान और लोगों की भागीदारी पर आधारित एक फिल्म भी दिखाई गई।

स्वच्छ भारत अभियान के आज तीन साल पूरे हो चुके हैं। 2 अक्टूबर 2014 में देश को साफ-सुधरा बनाने के लिए प्रधानमंत्री ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्म दिन पर एक अभियान की शुरूआत की थी। आज ये अभियान जनांदोलन बन चुका है। इस मौक़े पर प्रधानमंत्री ने विज्ञान भवन में स्वच्छभारत मिशन की प्रदर्शनी का अवलोकन किया। इसी के साथ ही “स्वच्छता ही सेवा” जो पंद्रह दिनों तक देश भर में चलने वाली मुहिम थी उसका भी समापन हो गया।

गौरतलब है की स्वच्छता ही सेवा मुहिम से देश भर की कई नामचीन हस्तियां जुड़ी और इसने देश में स्वच्छता की जागरूकता फैलाने में काफी अहम योगदान दिया। विज्ञान भवन में स्वच्छता पखवाड़े के दौरान जनजागरूकता अभियान और लोगों की भागीदारी पर आधारित एक फिल्म भी दिखाई गई। स्वच्छता अभियान का संकल्प 2019 तक भारत को साफ-सुधरा बनाने की है और 2019 का वर्ष महात्मा गांधी की 150वीं जयंती का भी वर्ष होगा।

प्रधानमंत्री ने विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में स्वच्छता ही सेवा मुहिम के समापन के मौक़े पर देश भर के नौनिहालों की भागीदारी को विशेष रूप से सराहा। उनके द्वारा ज़रिए बनाई गयी फिल्म,उकेरे गए कैनवास और लिखे गए निबन्धों में से सर्वश्रेष्ठ कृतियों को सम्मानित किया। इस अवसर पर पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय मंत्री उमा भारती राज्य मंत्री एस.एस.अहलूवालिया और शहरी विकास मंत्रालय के मंत्री हरदीप सिंह पुरी स्वतंत्र प्रभार मौजूद रहे।

स्वच्छता ही सेवा के तहत देशभर में पांच लाख 55 हजार 238 कैडेटों ने निबंध लेखन प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। जिसमें से जम्मू-कश्मीर की कैडेट शिखी साम्याल को श्रेष्ठ निबंध के लिए प्रधानमंत्री ने पुरस्कार प्रदान किया तो दिल्ली के कैडेट पी के यादव को श्रेष्ठ फिल्म अवार्ड प्रदान किया गया। देश के 15 राज्यों के राष्ट्रीय सेवा योजना और नेहरू युवा केंद्र संगठन के युवाओं ने निंबध और शॉट फिल्म प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। जिसमें श्रेष्ठ लेखन के लिए पंजाब की रमणदीप कौर को प्रधानमंत्री ने पुरस्कार प्रदान किया तो श्रेष्ठ फिल्म के लिए संगथलाल पी एस को सम्मानित किया गया।

स्वच्छ भारत मिशन अभियान के आज तीन साल पूरे हो चुके हैं। दरअसल 2 अक्टू. 2014 में देश को साफ-सुधरा बनाने के लिए प्रधानमंत्री ने महात्मा गांधी के जन्म दिन पर एक अभियान की शुरूआत की थी। आज ये अभियान जनांदोलन बन चुका है। इस मौक़े पर प्रधानमंत्री ने विज्ञान भवन में स्वच्छ भारत मिशन कार्यक्रम में ये 5 बड़ी बातें कहीं।

  • स्वच्छता बन चुका है जनांदोलन
  • वैचारिक बदलाव के ज़रिए होगा स्वच्छता मिशन पूरा
  • चुनौतियों से मुंह नहीं मोड़ा जा सकता
  • देश को श्रेष्ठ बनाने के लिए स्वच्छाग्रह ज़रूरी
  • गंदगी की वज़ह से ग़रीब परिवारों पर 50 हज़ार का स्वास्थ्य ख़र्च