स्मार्ट इंडिया हैकाथन में 10 हजार युवाओं से रूबरू हुए पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार रात को स्मार्ट इंडिया हैकाथन कार्यक्रम में 10 हजार से अधिक युवाओं को संबोधित किया। उन्होंने इस कार्यक्रम में अपनी स्पीच वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए से दी। अपने भाषण में नरेंद्र मोदी ने कहा कि आईटी के जरिए से समाज में बड़ा बदलाव लाया जा सकता है। 125 करोड़ देशवासियों को साथ मिलकर देश को आगे बढ़ाना है।

प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि इतिहास बदलाव लाने और चुनौती देने वालों को ही हमेशा याद रखता है। पिछले कुछ दिनों में देश तेजी से कैशलेस इकॉनमी की ओर बढ़ा है। इसके अलावा तकनीक के माध्यम से देश में बड़ा बदलाव लाया जा सकता है।

पीएम मोदी ने आगे कहा कि वर्तमान समय में आईटी के क्षेत्र में भारत दुनिया का नेतृत्व कर रहा है। हम इस समय तकनीक वाले युग में जी रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम सभी मिलकर देश को प्रभावित कर रहे तमाम मुद्दों को सुलझाएंगे। यह जन भागिदारी के तहत होगा। पीएम मोदी ने कहा कि तकनीक ने चीजों को और आसान बना दिया है।

प्रधानमंत्री ने युवाओं को संबोधित करते हुए आगे कहा कि जब आप किसी चीज की खोज कर रहे हैं तो हमेशा याद रखें कि उसकी गुणवत्ता प्रमुख है। अच्छी गुणवत्ता वाले उत्पाद कई लोगों की जिंदगी में बदलाव लाते हैं। पीएम ने आगे कहा कि लोग कहते हैं कि आज के युवा बहुत ज्यादा सवाल पूछते हैं लेकिन मैं ज्यादा सवाला पूछने वालों को अच्छा समझता हूं। भारत का युवा देश की समस्याओं के समाधान ढूंढना चाहता है। वे ऐसे परिणाम चाहते हैं जो जल्द निकले और विश्वसनीय भी हों।

जानें ‘स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन’ के बारे में ये मुख्य बातें:

  • इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के मुताबिक, हैकाथॉन का उद्देश्य इनोवेशन को बढ़ावा देना है.
  • केंद्र सरकार के 29 विभागों ने 598 समस्याओं की पहचान की है, जिनमें हवाईअड्डों की जियो-फेंसिंग, ऑनलाइन टोल कलेक्शन, स्मार्ट ट्रैफिक मैनेजमेंट, साइबर हमले तथा हवाईक्षेत्र को सुरक्षित बनाने के लिए स्मार्ट ड्रोन भी शामिल हैं.
  • लगातार 36 घंटे तक चलने वाली डिजिटल प्रोग्रामिंग प्रतियोगिता की जिम्मेदारी एक केंद्रीय विभाग या मंत्रालय की होगी.
  • शीर्ष तीन टीमों को क्रमशः 1,00,000, 75,000 तथा 50,000 रुपए से पुरस्कृत किया जाएगा.
  • डिजिटल सॉल्यूशंस का इस्तेमाल मंत्रालय/विभाग शासन प्रणाली का सुधार करने के लिए करेगा.
  • पुरस्कार पाने वाले सभी विजेताओं को कम्युनिटी ऑफ इनोवेटिव माइंड्स में शामिल किया जाएगा. हैकाथॉन का उद्देश्य देश में पेटेंट के बारे में जागरूकता में सुधार करना भी है.
  • केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि इस हैकाथॉन में देश के नामी-गिरामी आईआईटी और एनआईटी ही नहीं सुदूर इलाकों में स्थित तकनीकी संस्थानों को भी शामिल किया जा रहा है.
  • भारत की तकनीकी प्रतिभा ने दुनिया भर में अपनी पहचान बनाई है और कई जटिल समस्याओं के बिल्कुल अनूठे समाधान मुहैया करवाए हैं.
  • एचआरडी मंत्रालय, अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआइसीटीई) और यूजीसी और नैस्कॉम के अलावा भी कई सरकारी और गैर सरकारी संगठन इसमें शामिल हैं.
  • इससे केंद्र सरकार के ‘स्टार्ट अप इंडिया’ और ‘स्टैंड अप इंडिया’ कार्यक्रमों को भी बढ़ावा मिलेगा.
  • वर्ल्ड इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूआईपीओ) के मुताबिक, भारत में प्रति 10 लाख की आबादी में 40 पेटेंट होता है.