हिंसक प्रदर्शन करने वालों को पीएम की नसीहत

संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ यूपी में हुए हिंसक प्रदर्शनों पर बोले पीएम मोदी, कहा ऐसे करने वाले खुद से पूछें सवाल, क्या ये रास्ता ठीक है, अफवाह से दूर रहकर सार्वजनिक सम्पत्ति बचाने की दी नसीहत.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2019 के खत्म होते दिनों से पहले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि भेंट की और उनके सुशासन के मंत्र को उन्हीं के संसदीय क्षेत्र रहे लखनऊ में दोहराया। पूर्व पीएम ने पांच बार इस संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया था। पीएम ने एक ओर जहां पूर्व पीएम को याद किया वहीं नागरिकता संशोधन कानून का हिंसक विरोध कर रहे लोगों को कड़ा संदेश भी दिया। उन्होंने सभी से अफवाहों पर ध्यान ने देने की अपील की।

पीएम मोदी ने कहा कि आज़ादी के बाद सबसे ज्यादा ज़ोर अधिकारों पर दिया गया लेकिन अब अपने दायित्वों पर बल देना है।साथ ही उन्होंने युवाओं से शैक्षिक संस्थानों का सम्मान करने का भी आग्रह किया है। पिछले पांच सालों के दौरान केंद्र सरकार की योजनाओं को पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के सुशासन के मंत्र को जोड़ते हुए पीएम मोदी ने कहा कि सरकार ने जनता के हित में कड़े फैसले किए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने समस्याओं को लगातार चुनौती देकर उनका समाधान किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अटल बिहारी वाजपेयी चिकित्सा विश्वविद्यालय का शिलान्यास भी किया। राज्य सरकार ने इसके निर्माण के लिए 50 एकड़ भूमि आवंटित की है। पीएम मोदी ने कहा कि हेल्थ सेक्टर के लिए सरकार का रोडमैप सुरक्षात्मक, किफायती, मांग को देखते हुए सप्लाई को सुनिश्चित करने के साथ ही मिशन मोड के तहत काम करना है। पीएम मोदी ने कहा की स्वच्छ भारत से लेकर योग तक, उज्ज्वला से लेकर फिट इंडिया मूवमेंट तक और इन सबके साथ आयुर्वेद को बढ़ावा देने तक- इस तरह की हर पहल बीमारियों की रोकथाम में अपना अहम योगदान दे रही है।