मैंने पुलिस से फसल खराब न करने को कहा, बच्चों को खिलाने को कुछ नहीं बचता: गुना पीड़ित

गुना। अतिक्रमण हटाती पुलिस द्वारा पीटे जाने पर पत्नी संग ज़हर पीने वाले किसान ने कहा, “कोई विकल्प नहीं था। मैंने फसल बर्बाद न करने की विनती की लेकिन उन्होंने नहीं सुना।” बकौल किसान, “उन्होंने ऐसा पिछले साल भी किया था, मेरा कर्ज़ बढ़ गया था…पता था मेरे पास 6 बच्चों को खिलाने को कुछ नहीं बचेगा।”