मोहनपुरा वृहद परियोजना के प्रभावित ग्रामो में अभयपुर की आबादी

राजगढ़ @ ग्राम अभयपुर मोहनपुरा वृहद परियोजना के प्रभावित ग्रामों में से है किन्तु ग्राम की आबादी इस वर्ष डूब क्षेत्र में नही है। ग्राम में विद्युत व्यवस्था विछिन्न होने तथा फसलों में पानी भरने की सूचना प्राप्त होते ही क्षेत्रीय अमले द्वारा ग्राम में आरंभिक सर्वेक्षण कर लिया गया है। तहसील राजगढ़ के ग्राम अभयपुर की कुल आबादी 800 है। जिसमें कुल 146मकान है एवं वर्तमान में जल भराव से आबादी की दूरी लगभग 250 मीटर है। कृषि भूमियों में पारित अवार्ड कुल रकबा 74.774 हेक्टेयर में से प्रभावितों को 22425914.00 राशि रूपये के मुआवजे का भुगतान किया जा चुका है। शेष भूमि 50.80 हेक्टेयर का पूरक अवार्ड हेतु धारा 11 का प्रकाशन 21 जुलाई 2017 को किया जा चुका है। पूर्व अध्रिग्रहित भूमि का विशेष पैकेज तैयार कर लिया गया है, जिसका एक सप्ताह में भुगतान भी आरंभ कर दिया जाएगा।

इस वर्ष डूब क्षेत्र में नही, प्रभावितों को 22425914.00 राशि रूपये के मुआवजे का भुगतान किया गया अस्थायी विद्युत व्यवस्था हेतु जनरेटर से विद्युत प्रदाय करने कलेक्टर ने दिए निर्देश

इस आशय की जानकारी में कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने बताया कि ग्राम की आबादी वर्तमान में डूब से प्रभावित नही है। ग्राम के समीप स्थित नालों में बांध के जलभराव के कारण बैक वाटर आने से नाले के किनारे अधिकांश शासकीय भूमि प्रभावित हुई है। जिस पर ग्रामीणों ने फसल बुआई की है। कुछ निजी भूमि का रकबा नालों के बैक वाटर से प्रभावित हुआ है। जिसका अनुमानित रकबा 8 से 10 हैक्टेयर है। उक्त भूमि भी शासन पक्ष में अधिग्रहित की जा चुकी है। फसल से संबंधित ग्राम के पटवारी द्वारा विस्तृत सर्वेक्षण किया जा रहा है। उन्होने बताया कि ग्राम के निकट जल भराव की वजह से विद्युत व्यवस्था बाधित होने का मामला संज्ञान मंे आते ही मध्यप्रदेश विद्युत वितरण कपंनी एवं जल संसाधन विभाग द्वारा पुनः सर्वेक्षेण कर विद्युत प्रवाह फीडर से कनेक्ट करने हेतु पोल लगाने की कार्यवाही आरंभ कर दी गई है। अस्थायी विद्युत व्यवस्था हेतु जल संसाधन संभाग राजगढ़ कार्यपालन यंत्री विद्युत युनिट को जनरेटर से विद्युत प्रदाय हेतु निर्देशित किया गया है। ग्राम वासियों के पुनर्वास हेतु कार्यवाही पूर्व से आरंभ है। जिसमें उनके 146 मकानों का सर्वे कर लिया गया है तथा पुनर्वास पैकज हेतु सहमति ली जा रही है। मौके पर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व एवं कार्यपालप यंत्री जल संसाधन विभाग के द्वारा ग्रामीणों से चर्चा कर नियत अवधि में उनकी समस्याओं के निराकरण हेतु समाझाईस भी दी गई है और ग्रामीणों के द्वारा भी संतोष प्रकट किया गया है।