प्रयागराज नगर निगम प्रशासन ने अनूठी पहल: गाय के गोबर से तैयार दीये बेचने की गई व्यवस्था

इस ख़बर को शेयर करें:

प्रयागराज। दिन पर दिन हवा में घुलती जा रहाा प्रदूषण बड़ी समस्या बनता जा रहा है। पर्यावरण में बढ़ते प्रदूषण में कमी लाने की दिशा में नगर निगम प्रशासन ने अनूठी पहल की है। कान्हा गौशाला में निकलने वाले गाय के गोबर से दीये तैयार कराकर बेचने की व्यवस्था की गई है।

गुरुवार को नवाब यूसुफ रोड पर बीएसएनएल कार्यालय के सामने वेंडिंग जोन में दीये की बिक्री के लिए स्टॉल लगाया गया। पहले ही दिन चार हजार दीये बिके। लोगों में गोबर के दीयों के प्रति कौतुहल और उत्साह रहा। लोगों की बातों से यह भी आभास हुआ कि स्वदेशी वस्तुएं खरीदने और प्रदूषण कम करने के लिए उनके भीतर ललक है।

जस्टिस और निगम अधिकारियों ने खरीदे दीये

नगर नगर के अधिकारी ने बताया कि गोोशाला में गाय के गोबर को एकत्रित करके उसे सुखाया जाता है। सुखाने के बाद उसे चूर्ण बना लिया जाता है और फिर उसे एक छन्नी से छान लिया जाता है। इससे गोबर में आने वाले खर-पतवार व अन्य पदार्थ अलग हो जाते हैं।

गोबर का जो बुरादा प्राप्त होता है, उसमें 40 फीसद मिट्टी मिलाकर दीये तैयार किए जाते हैं। पायलट प्रोजेक्ट के रूप में इसकी शुरुआत की गई है। बीएसएनएल कार्यालय के सामने लगाए गए दीयोंं के स्टाल का उद्घाटन नगर आयुक्त रवि रंजन ने किया।

प्रभारी अधिकारी पशुधन मनोज यादव ने बताया कि नगर आयुक्त ने पांच सौ, जस्टिस गिरधर मालवीय और सीनियर एडवोकेट एस राठी ने 100-100 दीये खरीदे। दो सौ रुपये सैकड़ा दीया है। इसकी बिक्री सालभर की जाएगी। मांग पर मुफ्त में होम डिलीवरी भी की जाएगी।

बताया कि दीपावली के बाद मंदिरों में संपर्क करके इसी दीये में दीपक जलाने का आग्रह किया जाएगा। माना जा रहा है कि लोगोंं ने जागरुकता दिखाते हुए इन दीयों का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल किया तो पर्यावरण प्रदूषण घटेगा साथ ही गाय के गोबर का भी सदुपयोग होगा।