पूर्वी एशियाई शिखर सम्मेलन में शामिल हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

इस ख़बर को शेयर करें:

सिंगापुर में भारत-आसियान अनौपचारिक सम्मेलन में 10 आसियान देशों के नेताओं से की मुलाकात, कहा भारत और आसियान के बीच संबंधों को मजबूती देने और गौरवशाली भविष्य के लिए सहयोग जरूरी। सिंगापुर में 13वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शांत, समृद्ध, खुले और सबकी भागीदारी वाले हिन्द-प्रशांत क्षेत्र के प्रति भारत के दृष्टिकोण को क्षेत्र के नेताओं के सामने रखा।

उन्होंने क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी के प्रति भारत की प्रतिबद्धता जताते हुए नौवहन सहयोग को बढ़ाने का आह्वान किया। प्रधानमंत्री ने सदस्य देशों के बीच बहुपक्षीय सहयोग के साथ साथ आर्थिक और सांस्कृतिक संबंधों को बढ़ाने पर ज़ोर दिया।

पूर्वी एशिया सम्मेलन एशिया-प्रशांत के 18 देशों के नेताओं का मंच है, जिसका गठन क्षेत्रीय शांति, सुरक्षा और समृद्धि के लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए किया गया है।सम्मेलन के पूर्ण सत्र की शुरुआत में अपने संबोधन में सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सियेन लूंग ने कहा कि अपनी स्थापना से अब तक पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन आसियान का महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है।

उन्होंने कहा कि पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन के सदस्य नेताओं ने क्षेत्र के लिए अहमियत रखने वाले कई मुद्दों पर चर्चा की और भविष्य की चुनौतियों पर विचारों का आदान प्रदान किया। उन्होंने कहा कि साइबर सुरक्षा और स्मार्ट सिटी ऐसे क्षेत्र हैं जिनमें सहयोग की व्यापक संभावनाएं हैं।