चार देशों की यात्रा के बाद स्वदेश लौटे प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चार देशों के सफल दौरे के बाद स्वदेश लौटे, पेरिस में पीएम मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रो ने आतंकवाद और चरमपंथ से निपटने के तरीकों पर किया विचार विमर्श, पीएम मोदी ने पेरिस जलवायु समझौते को बताया विश्व की साझा विरासत.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चार देशों जर्मनी, स्पेन, रूस और फ्रांस की सफल यात्रा के बाद स्वदेश लौट आए हैं। छह दिवसीय दौरे पर पीएम मोदी ने चारों देशों के शीर्ष नेताओं से मुलाक़ात की और द्विपक्षीय संबंधों पर विचार विमर्श किया।

प्रधानमंत्री के इस दौरे के दौरान भारत ने कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जलवायु परिवर्तन और आतंकवाद को मानवता के सामने दो बड़ा ख़तरा बताया। उन्होंने कहा कि चरमपंथ का खात्मा हो सके इसके लिए प्रयास ज़रूरी हैं। यात्रा के अंतिम पड़ाव फ्रांस में राष्ट्रपति इमैन्युएल मैक्रां से पीएम मोदी ने द्विपक्षीय वार्ता की. इस दौरान राष्ट्रपति मैक्रां ने कहा कि आंतकवाद के ख़िलाफ़ लड़ाई में फ्रांस मज़बूती के साथ भारत के साथ खड़ा है। साथ ही उन्होंने कहा कि फ्रांस रक्षा और समुद्री सुरक्षा में भारत के साथ अपना सहयोग जारी रखेगा।

जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा वो इस मसले को लेकर पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस साल के अंत में वो भारत का दौरा करेंगे। चार देशों की 6 दिवसीय यात्रा के अंतिम चरण में शनिवार को पीएम मोदी ने राजधानी पेरिस में फ्रांस के नव-निर्वाचित राष्ट्रतपति इमैनुएल मैक्रां से मिले। मैक्रां ने गर्मजोशी से प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत किया।

इससे पहले पेरिस के एक होटल से निकलते निकलते हुए भारतीय प्रशंसकों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भव्य स्वागत किया। पीएम मोदी ने इस मौके पर हाथ मिलाकर लोगों का अभिवादन किया। फ्रांस दौरे के अंत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस के राष्ट्रपति एमेनुअल मैक्रां के साथ आर्क दे ट्रायोम्फ का दौरा कर विश्व युद्ध के दौरान शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि दी। यहां करीब डेढ़ लाख लोगों की शहादत हुई थी, जिसमें कई भारतीय भी शामिल थे। इस मौके पर पीएम ने अतिथि पुस्तक में अपने विचार भी साझा किए।