72 दिनों से सीएए के विरोध में धरना जारी, महामारी एक्ट के तहत 17 नामजद व 100 अज्ञात पर केस दर्ज, सीमाएं सील

प्रयागराज. विश्वव्यापी महामारी घोषित हो चुके कोरोनावायरस संक्रमण पर लगाम लगाने की नियत से प्रदेश सरकार की ओर से घोषित 3 दिन के लॉकडाउन का आज प्रयागराज में पहला दिन है। शहर में चौतरफा सन्नाटा है। सीमा को सील कर दिया है। सिर्फ इमरजेंसी वाहनों को ही आने जाने की अनुमति बड़ी मशक्कत के बाद मिल रही है। वहीं, इन सबसे से बेफिक्र तमाम महिलाएं सीएए के विरोध में धरने पर बैठी हैं। प्रशासन ने 17 नामजद व 100 अज्ञात पर महामारी एक्ट के तहत केस दर्ज किया है।

72 दिनों से चल रहा धरना
शहर के खुल्दाबाद के रौशनबाग मंसूर अली पार्क में पिछले 72 दिनों से सीएए के विरोध में धरना चल रहा है। कोरोनावायरस के मद्देनजर प्रशासन द्वारा समझाने के बाद भी धरने पर बैठे लोग हटने को तैयार नहीं हैं। प्रशासन ने सख्ती करते हुए 17 नामजद व 100 अज्ञात के विरुद्ध महामारी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। वहीं, धारा 144 के उलंघन के आरोप में 21 नामजद व 250 अज्ञात पर केस दर्ज किया गया है। वहीं, कवरेज के दौरान मीडियाकर्मी से अभद्रता करने पर भी एक एफआईआर दर्ज हुई है। खुल्दाबाद थाने में अटाला चौकी इंचार्ज की तहरीर पर एफआईआर दर्ज की गई है।

लॉकडाउन का आदेश जारी होने के बाद से ही जिले में खासकर शहरी क्षेत्र के लोगों में घबराहट दिखने लगी थी, लोगों ने आटा, सब्जी, चावल एवं दवाओं के लिए इधर-उधर दौड़ना शुरू किया। लेकिन जनता कर्फ्यू होने की वजह से रविवार को लोगों के हाथ मायूसी ही लगी थी। ऐसे लोग खासे परेशान थे। लोगों की परेशानी के बारे में जब डीएम भानु चंद्र गोस्वामी, आईजी कवींद्र प्रताप सिंह को पता चला तो सोमवार सुबह ही अधिकारियों ने बताया कि लॉकडाउन लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए किया गया है। इससे लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि सारे कार्यालय बंद रहेंगे। पार्क, जिम, शापिंग मॉल भी बंद किए गए हैं तो किसी को कहीं जाने की जरूरत भी नहीं है। इमरजेंसी सेवाओं पर पाबंदी नहीं है।

आईजी रेंज केपी ने कहा कि वायरस का संक्रमण रोकने के लिए प्रयागराज की सीमाओं को सील कर दिया गया है, ताकि कोई गाड़ी बाहर से न आए सके और न यहां से कोई गाड़ी बाहर जाने दी जाएगी। बैरियर पर तैनात पुलिस जांच के बाद केवल एंबुलेंस और मरीजों की गाडिय़ों को जाने देगी। आईजी ने कहा कि फिलहाल अतिरिक्त फोर्स का फैसला नहीं हुआ है। जिले में मौजूद पुलिस फोर्स से ही इस आदेश का पालन कराया जाएगा। लोगों से अपील है कि वे लॉकडाउन अवधि के दौरान घर में ही रहें। लॉक डाउन के दौरान मरीजों को लेकर अस्पताल जा रही गाड़ी और एंबुलेंस को नहीं रोका जाएगा।

मेडिकल स्टोर, एटीएम और बैंक खुलेंगे, जमाखोरों पर होगी कार्रवाई
जिलाधिकारी भानु चंद्र गोस्वामी ने बताया कि गैस सिलेंडर के ट्रक, तेल के टैंकर भी चलेंगे। मेडिकल स्टोर, एटीएम और बैंक खुलेंगे। हर मोहल्ले में राशन और सब्जी की कुछ दुकानों को खोलने दिया जाएगा। लोग इन दुकानों तक जा सकेंगे। बाकी गाड़ी लेकर कहीं जाने पर रोक रहेगी। पुलिस फोर्स लॉक डाउन के दौरान बिनी किसी आपात जरूरत के घर से निकले लोगों को वापस भेजेगी। आदेश का पालन नहीं करने पर कानूनी कार्रवाई होगी।