बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पशुओं को पर्याप्त मात्रा में आहार एवं उपचार की सुविधा उपलब्ध

बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों में पशुधन विभाग द्वारा लगातार राहत कार्य किये जा रहे हैं। राज्य सरकार द्वारा पशुओं के आहार और उपचार के समुचित प्रबंध किए गये हैं। पशुओं को सुरक्षित स्थानों पर टीकाकरण, अस्वस्थ पशुओं का उपचार तथा पर्याप्त भूसा वितरण किया जा रहा है। नदियों के जल स्तर घटने के बाद भी विभिन्न जनपदों के प्रभावित क्षेत्रों में राहत व बचाव कार्य किया जा रहा है।

इस संबंध में निदेशक, रोग नियंत्रण एवं प्रक्षेत्र पशुपालन, डा0 ए0एन0 सिंह ने बताया कि प्रदेश के बाढ़ प्रभावित 24 जिलों में 990 बाढ़ राहत चैकिया बनाई की गई हैं, जिसमें पशुओं की सुरक्षा एवं देखरेख हेतु 335 पशु राहत शिविर संचालित किए जा रहे हैं। इन राहत शिविरों में पशुओं को सभी प्रकार के उपचार की आवश्यक चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है।

उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के 2 लाख 67 हजार 820 पशुओं का टीकाकरण एवं उपचार किया गया है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लगातार पशुओं की नियमित देखरेख की जा रही है। पशुओं को राहत शिविर में रखते हुए उनके लिए चारा-भूसा आदि की भी व्यवस्था की गई है। बाढ़ प्रभावित जनपदों में अब तक लगभग 12114 कुन्तल भूसा वितरित किया गया है।