बाघों के संरक्षण में जनजागरूकता जरूरी-प्रभारी जिलाधिकारी

#इलाहाबाद: अन्तर्राष्ट्रीय बाघ दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में प्रभारी जिलाधिकारीध्मुख्य विकास अधिकारी सैमुअल पाल एन ने भाग लिया। उन्होंने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम होने से हम लोगों को बाघों के प्रति जागरूक कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि इन कार्यक्रमों में स्कूली बच्चों को सम्मिलित किये जाने से उनमे भी बाघों के प्रति जागरूकता आयेगी और दूसरे बच्चों एवं दोस्तों को भी बाघों के बारे में मिली जानकारी को शेयर करेंगे।

सामाजिक वानिकी वन प्रभाग इलाहाबाद द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय बाघ दिवस पर लोगों में बाघों के प्रति जागरूकता पैदा करने हेतु चन्द्रशेखर आजाद पार्क में कार्यक्रम आयोजित किया गया। बाघों के प्रति बच्चों में जागरूकता लाने हेतु चन्द्रशेखर आजाद पार्क में निबन्ध प्रतियोगिता एवं पेंटिंग प्रतियोगिता आयोजित की गयी। जिसमें विभिन्न स्कूलों से आये स्कूली बच्चों ने प्रतिभाग लेकर इसमें विभिन्न प्रकार के बाघों पर पेटिंग की और बाघों पर निबन्ध भी लिखा। बाघ दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में सेल्फी विद बाघ कार्यक्रम भी रखा गया जिसमें सभी स्कूली बच्चों एवं प्रशासनिक अधिकारियों ने सेल्फी लेकर इस कार्यक्रम को सफल बनाया।

इस अवरसर पर जिला वन संरक्षण अधिकारी श्रीमती दिव्या ने बताया कि 29 जुलाई को संपूर्ण विश्व में अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस मनाया जाता है। इस दिवस में बाघों के निवास के संरक्षण, विस्तार तथा उनके स्थिति के बारे में जागरूक किया जाता है।अपनी शालीनता, दृढ़ता, फुर्ती और अपार शक्ति के लिए बाघ को राष्ट्रीय पशु कहलाने का गौरव प्राप्त है। बाघ की आठ प्रजातियों में से भारत में पाई जाने वाली प्रजाति को रॉयल बंगाल टाइगर के नाम से जाना जाता है। वर्तमान में बाघ की आबादी वाले 13 देशों में कुल 3948 बाग है वहीं भारत में कुल बाघों की संख्या 1706 है।

निबन्ध एवं पेंटिग प्रतियोगिता के बाद स्कूली बच्चों के द्वारा एक कम्पनी बाग में ही एक रैली प्रभारी जिलाधिकारी के साथ निकाली गयी। जिसमें स्कूली बच्चों ने अपने हाथों में लकड़ी की तख्ती लेकर एवं बैनर के साथ बाघ बचाओ शान बढाओं की आवाजों के साथ कम्पनी बाग में टहल रहे लोगों को बाघों के प्रति जागरूक किया गया। इस कार्यक्रम में सामाजिकी वानिकी वन प्रभाग की जिला वन अधिकारी श्रीमती दिव्या के साथ सब डीएफओ के.एस. यादव सहित वन विभाग की पूरी टीम मौजूद रही।