महामारी से निपटने के लिए जनप्रतिनिधयों ने दी अपनी निधि व वेतन

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस संक्रमण के 34 मामले सामने आ चुके हैं। इसका प्रसार न हो, योगी सरकार ने 19 जिलों को लॉकडाउन किया है। बचाव के लिए हर जरूरी ऐहतियात बरती जा रही है। इस बीच जनता को बुनियादी सुविधाएं देने के लिए अपनी निधि व वेतन आवंटित की है। प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने अपना एक माह का वेतन व विधायक निधि से एक करोड़ रुपए कोरोना महामारी से निपटने के लिए देने का ऐलान किया है।

बसपा सांसद ने दिए 50 लाख

अंबेडकरनगर के बसपा सांसद रितेश पांडेय ने अपनी लोकसभा क्षेत्र के लोगों से बचाव व रोकथाम पर खर्च के लिए 50 लाख रुपए सांसद निधि से दिया है। मिर्जापुर की सांसद अनुप्रिया पटेल ने अपनी सांसद निधि से 25 लाख रुपए दिए हैं। कांग्रेस एमएलसी दीपक सिंह ने अपने क्षेत्र की जनता के लिए 10 लाख रुपए अपनी विधायक निधि से दिए तो पूर्व मंत्री विनोद सिंह ने कमला नेहरू मेमोरियल ट्रस्ट के द्वारा संचालित महाविद्यालय के छात्रावास को आइसोलेशन सेंटर बनवाने के लिए सुल्तानपुर के डीएम को लेटर लिखा है। लखनऊ उत्तर से विधायक नीरज बोरा ने अपनी एक महीने का वेतन देने की मांग की है।

इसी तरह उन्नाव से भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से निजात दिलाने के लिए अपनी सांसद निधि से 25 लाख की धनराशि आवंटित करने के लिए पत्र लिखा है। वहीं, हरदोई के गोपामऊ से विधायक श्याम प्रकाश ने अपनी विधायक निधि से 25 लाख रुपए कोरोना से बचाव पर खर्च करने के लिए लेटर लिखा है।

इसी तरह सवायजपुर से विधायक कुंवर माधवेंद्र प्रताप सिंह रानू ने 10 लाख रुपए, लालगंज से सांसद संगीता आजाद ने 50 लाख रुपए, लालगंज से विधायक आजाद अरिमर्दन ने 25 लाख रुपए, सैय्यद राजा, चंदौली से विधायक सुशील सिंह ने 20 लाख रुपए, सांसद हरीश द्विवेदी ने 20 लाख रुपए देने का ऐलान किया है।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने सीएम को लिखा लेटर
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने सीएम को एक लेटर लिखा है। जिसमें उन्होंने विधायक निधि का एक निश्वित हिस्सा कोरोना वायरस से बचाव व जरुरी सामान खरीदने के लिए खर्च करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा- राजस्थान सरकार ने इस तरह की गाइड लाइन जारी की है। प्रदेश सरकार भी ऐसा करे।