मुहर्रम पर कुंडा में भंडारा करने पर अड़े राजा उदय प्रताप सिंह महल में नजरबंद

रिपोर्ट – जीतेन्द्र तिवारी

प्रतापगढ़ (कुंडा)। मोहर्रम के दिन हनुमान मंदिर में पूजा-पाठ व भंडारा करने पर अड़े रघुराज प्रताप सिंह ‘राजा भैया’ के पिता उदय प्रताप सिंह को उनके भदरी महल में नजरबंद किया जाएगा। जिला प्रशासन ने इस बाबत आदेश जारी कर दिया है। उदय प्रताप सिंह सोमवार शाम पांच बजे से मंगलवार रात दस बजे तक अपने महल में नजरबंद रहेंगे। प्रशासन ने भंडारे की अनुमति नहीं दी है।

टकराव की आशंका से प्रशासन ने लिया गया निर्णय उदय प्रताप सिंह शेखपुर आशिक स्थित हनुमान मंदिर में हर साल मोहर्रम के दिन भंडारे का आयोजन करते हैं। इसी दिन मंदिर के रास्ते से होकर ताजिया का जुलूस निकलता है। इस दौरान दो समुदायों में टकराव की स्थिति उत्पन्न होने की आशंका बनी रहती है। उदय प्रताप सिंह इस बार भी भंडारा करने पर अड़े हुए हैं। लेकिन जिला प्रशासन ने इस धार्मिक कार्यक्रम की अनुमति नहीं दी है।

बंदर की मौत के बाद बनवाया गया था हनुमान मंदिर
शेखपुरा आशिक में कई साल पहले मोहर्रम के दिन एक बंदर की मौत हो गई थी। इसके बाद यहां हनुमान मंदिर का निर्माण कराया गया। मंदिर बनने के बाद उदय प्रताप सिंह के द्वारा यहां हनुमान चालीसा पाठ व भंडारे का आयोजन मोहर्रम के दिन करवाया जाता है। साल 2015 में ताजिया का जुलूस मोहर्रम के तीन दिन बाद निकाला गया था। वहीं, साल 2016 में प्रशासन की सूझबूझ व सतर्कता से भंडारा व मोहर्रम का जुलूस शांतिपूर्वक संपन्न हुआ था। लेकिन इस बार एजेंसियों की मानें तो दो समुदायों के बीच टकराव की स्थिति बन सकती है।