अयोध्या: राम मंदिर ट्रस्ट की मंशा जल्द जमीन पर दिखे निर्माण, इसी सप्ताह अयोध्या में पहुंचेंगी मशीनें

अयोध्या। श्री रामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की मंदिर निर्माण समिति की 20 अगस्त को दिल्ली में हुई बैठक में सारा फोकस केवल मंदिर की नींव निर्माण तक था। बैठक में इस बात पर विचार किया गया कि कब तक नींव की खुदाई शुरू हो सकती है, इसी को लेकर रहा। इस बैठक में शामिल मंदिर के मुख्य आर्किटेक्ट निखिल सोमपुरा ने बताया कि बैठक में नींव का निर्माण करने वाली कंपनी एल एंड टी के इंजीनियर भी मौजूद थे। एल एंड टी के इंजीनियरों ने बैठक में अबतक के कार्य प्रगति की जानकारी दी।

ट्रस्ट के सदस्य डा अनिल मिश्र के मुताबिक पीएम मोदी के मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम के बाद ट्रस्ट जल्द मंदिर निर्माण का काम तेजी से शुरू करवाना चाहता है।इसके लिए सारे प्रयास किए जा रहे हैं। सोमपुरा ने बताया कि मंदिर स्थल की भूमि का मृदा परीक्षण का काम आईआईटी चेन्नई व सीबीआरआई के विशेषज्ञ इंजीनियरों व एल एंड टी की टीम ने कर लिया है।अब आगे पिलर की नींव की खुदाई का काम उसी के मुताबिक शुरू कर दिया जाएगा।

कम्पनी की मशीनें जल्द राम मंदिर साइट पर पहुंचेंगी
सोमपुरा ने बताया कि एल एंड टी कंपनी के अधिकारियों ने बैठक में बताया कि उनकी कंपनी की बड़ी मशीनें राम मंदिर साइट के लिए चल पड़ी है जो रास्ते में हैं। उम्मीद है कि मशीनें इसी हफ्ते अयोध्या पहुंच जाएंगी। मशीनों से नींव की खुदाई करके नींव का प्लेटफार्म तैयार करने में तीन महीने का समय लग सकता है।

उसके बाद सोमपुरा की टीम पत्थरों का काम शुरू करेगी। जिसकी पूरी तैयारी कर ली गई है। निखिल सोमपुरा के मुताबिक अयोध्या की कार्यशाला में तराश कर रखे गए पत्थरों से काम शुरू हो जाएगा। इस बीच अवशेष पत्थरों को मंगा कर उनके तराशने का काम भी तेजी से करवाया जाएगा।

नींव की मजबूती व निर्माण पर ही हुई चर्चा
सोमपुरा के मुताबिक दिल्ली की बैठक केवल मंदिर के नींव निर्माण की तैयारी और इसकी मजबूती पर चर्चा के लिए ही बुलाई गई थी। इस बीच 70 एकड़ जमीन पर बने आर्किटेक्ट प्लान को भी ओके कर दिया गया है। इसका नक्शा अयोध्या विकास प्राधिकरण से पूरा शुल्क जमा करके पास करवा लिया जाएगा। इसी महीने के अंत तक नींव की खुदाई का काम शुरू हो जाएगा।