JNU से रातों रात प्रसिद्ध हुए रामजल मीणा जानिए क्या है इनकी कहानी

41

देश के सर्वश्रेष्ठ शिक्षण संस्थान में गिने जाने वाले जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में बतौर सिक्योरिटी गार्ड तैनात रामजल मीणा ने ‘रशियन लैंग्वेज’ में एंट्रेंस एग्जाम क्रैक कर लिया है, और अब वो इसी कॉलेज के स्टूडेंट बन गए हैं.

तारा शंकर आगे लिखते हैं, 8-10 घंटे की थकाऊ ड्यूटी करने के बीच रामजल अपने साथ किताबें लाते थे और थोड़ा-थोड़ा समय निकालकर पढ़ते भी रहते थे। कुछ एक प्रोफेसर और खासकर छात्रों ने इन्हें प्रोत्साहित किया, जिसका जिक्र ये फक्र से करते हैं।

मीणा ने बताया कि उन्होंने अपने गांव भजेरा में सरकारी स्कूल में दाखिला लिया था लेकिन अपने मजदूर पिता कि मदद करने के लिए उन्हें अपनी पढ़ाई रोकनी पड़ी. हालांकि, उनकी पढ़ने की इच्छा कभी खत्म नहीं हुई.

राजमल शादीशुदा हैं और उनकी तीन बेटियां हैं, वो मुनिरका में एक कमरे में रहते हैं. उन्होंने कहा, “मैं अपने परिवार की जिम्मेदारियों में व्यस्त था, लेकिन मेरे मन में रेगुलर कॉलेज न कर पाने का अफसोस हमेशा था.