रेलवे बढ़ाएगा यात्री विश्रामालय का किराया

इलाहाबाद : यात्रियो को रेलवे स्टेशन पर रिटाय¨रग रूम (यात्री विश्रामालय) मे आराम करने के लिए जल्द ही अपनी जेब ढीली करनी होगी। रेलवे बोर्ड द्वारा यात्री विश्रामालय का किराया बदलने का निर्देश जारी हो चुका है। डीआरएम स्तर से रेट फिक्स किए जाने हैं। संभावना है कि 10 से 15 प्रतिशत किराया बढ़ सकता है। दो साल पहले रेलवे द्वारा यात्री विश्रामालय का किराया बढ़ाया गया था। यात्री को एसी डीलक्स का एक कमरा 12 घंटे के लिए किराए पर लेने के लिए 720 रुपये और 24 घंटे के लिए 1200 रुपये का भुगतान करना पड़ा था। एसी कमरे का 12 घंटे का 600 रुपये और 24 घंटे का एक हजार रुपये, एसी डारमेट्री का 12 घंटे का 240 रुपये और 24 घंटे का 400 रुपये, नॉन एसी कमरे का 12 घंटे का 360 रुपये और 24 घंटे का 600 रुपये, नॉन एसी डारमेट्री बेड का 12 घंटे का 90 रुपये और 24 घंटे का 150 रुपये देना पड़ता है। 24 घंटे के बाद कमरा लेने पर 25 प्रतिशत अतिरिक्त अधिभार लगता है। रेलवे बोर्ड ने सभी डीआरएम को निर्देश जारी किया है कि वह अपने अधिकार क्षेत्र मे किराए मे बदलाव करे। रेलवे बोर्ड द्वारा पत्र आने के बाद इस दिशा मे काम शुरू हो गया है। अब कमर्शियल डिपार्टमेट की टीम शहर के होटलो का किराया पता करेगे? वहां पर एसी कमरे का किराया कितना है? नॉन एसी कमरे का किराया कितना है? रेलवे के रिटाय¨रग रूम की कितनी डिमांड है? इसकी रिपोर्ट तैयार करके डीआरएम को देगे। उसके बाद कमेटी यह तय करेगी कि कितना प्रतिशत किराया बढ़ाया जाना चाहिए। सूत्रो के मुताबिक 10 से 15 प्रतिशत किराए मे बढ़ोतरी हो सकती है। छह घंटे के लिए मिलने लगा है कमरा : पहले 12 और 24 घंटे के लिए रिटाय¨रग रूम मिलता था। गत वर्ष छह घंटे के लिए भी कमरा किराए पर मिलने की व्यवस्था शुरू हुई थी। इसके अनुसार किराए मे थोड़ा बदलाव किया गया था। क्लाक रूम का भी प्रभार बदलने की योजना : रेलवे बोर्ड ने अभी यात्री विश्रामालय का किराया बदलने का निर्देश दिया है। संभावना है कि क्लाक रूम का प्रभार भी बदलेगा। अभी क्लाक रूम मे कोई बैग या सामान रखने पर 24 घंटे के लिए 16 रुपये लगते है। 24 घंटे के बाद 21 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से प्रभार लिया जाता है।