कृषक जीवन कल्याण योजना संशोधित

मुरैना@ प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा कृषक जीवन कल्याण योजना वर्ष 2008 से प्रारंभ की गई है। जिसमें कृषक हितग्राही को मृत्यु पर एक लाख रूपये की सहायता राशि दी जाती थी जिसे अब संशोधित कर 24 जनवरी 2017 से 4 लाख रूपये कर दिया गया है। इस योजनान्तर्गत किसानों तथा कृषि आधारित रोजगार करने वाले वे समस्त व्यक्ति इस योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने के लिए पात्र होंगे, जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कृषि कार्य से जुडे है। योजना का लाभ कृषि कार्य में कृषि यंत्रों का उपयोग करते हुए या कृषि कार्य करते समय बिजली का करेंट लगने या खेत से गुजरने वाली विद्युत लाइन के क्षति ग्रस्त होने से दुर्घटना में मृत्यु या अंग भंग होने पर अथवा सिंचाई कार्य कुंआ या ट्यूवबेल स्थापित या संचालित के समय बिजली का करेंट लगने अथवा खेतों में फसल, फल सब्जियों पर रसायनिक दवाईयों आदि के छिडकाव के समय अथवा कृषि उपज के विक्रय के लिए तथा घर से खेत मे आते जाते समय रास्ते में दुर्घटना अथवा मंडी प्रागंण व क्रय केन्द्रों टेक्टर ट्राली बेलगाडी इत्यादि पलटने अथवा कृषि यंत्रों के उपयोग बोरियो की ढेरी लगाते समय से दुर्घटना अथवा कुट्टी की मशीन एवं कृषि यंत्रों के क्रेश मशीन में आने से दुर्घटना अथवा कृषि सुरक्षा पेडो की छटाई कृषि रखवाली पशु चराई, पशु को घास चराने, दाना खिलाने, पानी पिलाने, छोडने बांधने आदि दैनिक कार्य के समय हुई दुर्घटना में मृत्यु एवं अंग भंग के लिए निम्नानुसार संशोधित आर्थिक सहायता राशि शासन द्वारा प्रदान की जावेगी।

मृत्यु होने पर राज्य शासन द्वारा सहायता राशि 1 लाख रूपये के स्थान पर अब 4 लाख रूपये निर्धारित की गई है।दुर्घटना में अस्थाई अपंगता पर 25 हजार रूपये। दुर्घटना मे अंग भंग होने से आंशिक अपंगता 7500 रूपये। अंत्येष्टी अनुदान 2 हजार रूपये है। किसान भाईयो से आग्रह है कि कृषि कार्य करते हुए उक्त दुर्घटना होने पर तत्काल जिला कलेक्टर कार्यालय में आवेदन प्रस्तुत कर शासन की उक्त योजनाओं में सहायता राशि प्राप्त करें। विशेष जानकारी कलेक्टर कार्यालय अथवा तहसील कार्यालय अथवा नजदीकी कृषि उपज मंडी समिति के कार्यालय में संपर्क कर प्राप्त की जा कसती है।