Skip to content

रूस ने यूरोप के सबसे बड़े परमाणु संयंत्र पर किया कब्जा, यहाँ से यूक्रेन को मिलती है 25 प्रतिशत बिजली

Tags:
इस ख़बर को शेयर करें:


रूस ने यूक्रेन के जेपोरजिया स्थित परमाणु संयंत्र पर कब्जा कर लिया है। ये न केवल यूक्रेन बल्कि पूरे यूरोप का सबसे बड़ा परमाणु संयंत्र है। यूक्रेन के परमाणु निरीक्षणालय ने रूस के संयंत्र पर कब्जा करने की पुष्टि की है। उसके बयान के अनुसार, संयंत्र का स्टाफ अभी भी रिएक्टर को चला रहा है और सामान्य सुरक्षा नियमों के मुताबिक पॉवर सप्लाई कर रहा है।

संयंत्र के एक हिस्से में आग लगने से बढ़ गई थी बड़े हादसे की आशंका
बता दें कि रूसी हमले के कारण जेपोरजिया परमाणु संयंत्र के एक हिस्से में आग लग गई थी और इसने बड़ा परमाणु हादसा होने की आशंकाओं को जन्म दिया था।
हमले में एक ट्रेनिंग बिल्डिंग और लैबोरेट्री प्रभावित हुई थी और यूक्रेन ने चेतावनी दी थी कि अगर परमाणु संयंत्र में कुछ गड़बड़ हुई तो इसका असर चर्नोबिल त्रासदी से 10 गुना अधिक होगा। हालांकि ऐसा कुछ हुआ नहीं और संयंत्र से किसी तरह का रिसाव नहीं हो रहा।

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमीर जेलेंस्की ने मामले पर बयान जारी करते हुए रूस पर ‘परमाणु आतंक’ का सहारा लेने का आरोप लगाया था और कहा था कि रूस चर्नोबिल त्रासदी को दोहराना चाहता है। वीडियो संदेश में उन्होंने कहा, “रूस के अलावा किसी भी अन्य देश ने परमाणु संयंत्रों पर हमला नहीं किया है। यह इतिहास में पहली बार हो रहा है। मानवता के इतिहास में यह पहली बार हुआ है। आतंकी राष्ट्र अब परमाणु आतंक पर उतर आया है।”

बोरिस जॉनसन बोले- पुतिन ने पूरे यूरोप को खतरे में डाला
अन्य वैश्विक नेताओं ने भी परमाणु संयंत्र पर हमला करने के लिए रूस पर निशाना साधा है। यूनाइटेड किंगडम (UK) के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पर पूरे यूरोप को खतरे में डालने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, “राष्ट्रपति पुतिन की लापरवाह हरकतें अब सीधे-सीधे पूरे यूरोप की सुरक्षा को खतरे में डाल रही हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने भी मामले में जेलेंस्की से फोन पर बातचीत की।

जेपोरजिया परमाणु संयंत्र से यूक्रेन को मिलती है 25 प्रतिशत बिजली
जेपोरजिया परमाणु संयंत्र से यूक्रेन की 25 प्रतिशत बिजली की जरूरत पूरा होती है। जानकारों का कहना है कि इसके प्रभावित होने की स्थिति में यूक्रेन के पावर ग्रिड ठप्प पड़ सकते हैं। रूस ने निष्क्रिय पड़े चर्नोबिल संयंत्र पर भी कब्जा कर लिया है।

यूक्रेन पर रूस के आक्रमण का आज नौंवा दिन है और शुरूआती असफलताओं के बाद अब रूस ने यूक्रेन पर हमला तेज कर दिया है। रूसी सेना ने राजधानी कीव समेत यूक्रेन के कई शहरों को घेरा हुआ है और उन पर लगातार बमबारी कर रही है। रूस ने दक्षिणी यूक्रेन स्थित खेरसन और काखोवका जैसे रणनीतिक तौर पर महत्वपूर्ण शहरों पर भी कब्जा कर लिया है। रूस के हमलों में बड़ी संख्या में आम नागरिक भी मारे गए हैं।